नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;28a652baaa557beb119082d79bb66219b5043254175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;10c1fdbb83f6218552af0a6744bec51df9cd4aa4175;250;296f0180ce61d3dd0b74abd02e03a8e23dd00894175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;d46367fb31101646266af84a6720d25862003e88175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d175;250;3f8bd1cf76134edb8bbd64fe531f169c10e5303f175;250;0bb624b0b1146fd3811a95d9917376463b22c057

राष्ट्रीय सुर्खियां--

सम्पादक

लीना


Print Friendly and PDF

दैनिक जागरण के मुख्यमहाप्रबंधक, कार्मिक प्रबंधक और मार्केटिंग मैनेजर के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज

September 2, 2015

नोएडा/ मीडिया संस्थानों में गजब का खेल है। भले ही लोगों को कुछ दिखता हो,लेकिन इसकी हालत आम कारोवार की तरह है। मुनाफा की होड़ में हर तरह के हथकंडे अख्तियार किए जा रहे हैं। देश का नम्बर वन का दावा करनेवाला दैनिक जागरण अखबार में तरह —तरह का खेल हैं। मामला कार्यस्थल पर सम्मान का है।  फिलहाल इस अखबार में काम करनेवाली एक सीनियर मार्केटिंग  एक्जक्युटिव के पद पर कार्यरत पीड़ित महिला कर्मचारी ने गौतमबुद्ध नगर थाना में  दैनिक जागरण के मुख्य महाप्रबंधक जितेन्द्र श्रीवास्तव,कार्मिक प्रबंधक देवानं…

Read more

रवीश कुमार सही में दलाल है

September 1, 2015

पत्रकारों को चुन कर एक नेता के विरोधी के रूप में पहचान की गई। दस बारह चुन लिये गए। बाकियों को समर्थक मान कर महान मान लिया गया। दस पत्रकारों को विरोधी बताने के लिए गाली देने वाली सेना लगी रही 

रवीश…

Read more

मीडिया के दरबार में इंद्राणी की फंतासी

August 31, 2015

भगवान न करें कि आपके साथ ऐसा हो, अगर हो भी जाए तो कवरेज का अधिकार के तहत आप भी पूरा मज़ा लीजिए !

रवीश कुमार। इंद्राणी मुखर्जी की गिरफ्तारी से जिस तरह से चैनलों और अखबारों में कवरेज हो रहा है, वो कोई पहली बार नहीं हो रहा। पहले भी इसी तरह के कवरेज को लेकर लंबे लंबे लेख लिखे जा चुके हैं। पत्रकारिता की सीमा और पीले रंग की महिमा का गान हो च…

Read more

हिंदी पर केंद्रित "समागम" का नया अंक

August 28, 2015

शोध पत्रिका"समागम"  का नया सितंबर अंक हिंदी पर केंद्रित है। इसमें भोपाल में होने वाले विश्व हिन्दी सम्मेलन के मद्देनजर विशेष सामग्री हैं। इस अंक का संपादन हिंदी की सुपरिचित साहित्यकार डॉ उर्मिला शिरीष ने किया है।…

Read more

मीडिया सत्ता के हक में लामबंद

August 23, 2015

जनता अब मजे के लिए अखबार पढ़ती है/ मीडिया अब मनोरंजन का सर्वोत्तम माध्यम है...

पलाश विश्वास / कौन अखबार किस भाषा में बात कर रहा है,पाठक से बेहतर जानता नहीं है कोई। कौन अखबार कब कब बदला है ऐन मौके पर,पाठक से बेहतर जानता नहीं है कोई। दर्शक की नजर में हम्माम मे सारे के सारे नंगे हैं। फिर भी शर्मोहया की दीवारें अपनी जगह थीं, जो अब ढह रही है। फासीवाद के रंग…

Read more

हरिभूमि की जूठन खाने पर उतरा दैनिक भास्कर

August 22, 2015

रायपुर/ खुद को देश का सबसे तेज समाचार पत्र होने का दावा करने वाला दैनिक भास्कर पुरानी व प्रकाशित खबर फ्रंट पेज पर छाप रहा है। ताजा मामला दैनिक भास्कर के रायपुर संस्करण के फ्रंट पेज पर 20 अगस्त, 2015 को प्रकाशित समाचार शीर्षक -एसीबी की छापेमारी के खिलाफ आईएएस एसोसिएशन का मोर्चा है। यही समाचार दैनिक भास्कर में प्रकाशित होने से एक दिन पूर्व 19 अगस्त, 2015 को हरिभूमि के फ्रंट पेज पर -आईएएस अफसरों ने दी सीएम के दर पर दस्तक शीर्षक से प्रकाशित हो चुका था। समाचार में दैनिक भास्कर ने भी ख…

Read more

पत्रकारिता की कल और आज की तस्वीर

August 19, 2015

मासिक पत्रिका ‘‘ साहित्य अमृत’’ इस बार मीडिया विशेषांक

संजय कुमार / नई दिल्ली से साहित्य एवं संस्कृति का संवाहक मासिक पत्रिका ‘‘ साहित्य अमृत’’ अपने प्रकाशन के 20 वर्ष पूरे होने पर मीडिया विशेषांक निकाल कर चर्चे में है। ‘साहित्य अमृत’ के मीडिया विशेषांक में मीडिया और साहित्य जगत के प्रमुख हस्ताक्षरों को जगह दी गयी है। मीडिया विशेषांक होने के बावजूद किसी खास मुद्दे को केन्द्र में न…

Read more

मुम्बई प्रेस क्लब ने की पत्रकार को धमकी की निंदा

August 19, 2015

मुम्बई। मुम्बई प्रेस क्लब ने गहरी चिंता व्यक्त करते हुए, दबंग दुनिया के वरिष्ठ पत्रकार श्रीनारायन तिवारी को जान से मारने की धमकी देने की निंदा की है और दोषी को तत्काल गिरफ्तार करने की महाराष्ट्र सरकार से मांग की है।…

Read more

"दलित दस्तक" के बाद वेब चैनल "नेशनल दस्तक" लांच करेंगे अशोक दास

August 12, 2015

इसमें दो सेक्शन होंगे, एक खबरों का तो दूसरा विडियो का

मासिक पत्रिका "दलित दस्तक" के तकरीबन चार वर्षों के सफल संपादन/प्रकाशन के बाद इसके संपादक अशोक दास अब वेब चैनल लांच करने की तैयारी में हैं। वेब चैनल का नाम "नेशनल दस्तक" होगा। इसके माध्यम से खासतौर पर उन अनछुए पहलुओं की ओर झांकने की कोशिश की जाएगी, जिसे मुख्यधारा की इलेक्ट्रानिक मीडिया नजरअंदाज कर देती है। अपने इस नए वेंचर के बारे में अशोक दास ने बताया …

Read more

स्वतंत्र भारत में खबरों की आजादी...!!

August 10, 2015

तारकेश कुमार ओझा / आजादी के बाद से खबरचियों यानी मीडिया के क्षेत्र में भी आमूलचूल परिवर्तन आया है। पहले मीडिया से जुड़े लोग फिल्म निदेशकों की तरह हमेशा पर्दे के पीछे ही बने रहते थे। लेकिन समय के साथ  इतना बदलाव आया है कि अब इस क्षेत्र के दिग्गज बिल्कुल किसी सेलीब्रिटी की तरह परिदृश्य के साथ  पर्दे पर भी छाये रहते हैं। अपने ही चैनल पर अपना इंटरव्यू देते हैं और हमपेशा लोगों की बखिया उधेड़ने से भी बिल्कुल गुरेज नहीं करते।…

Read more

राजेन्द्र माथुर की गैरहाजिरी के 25 साल

August 8, 2015

जन्मदिन 8 अगस्त पर विशेष लेख

मनोज कुमार / किसी व्यक्ति के नहीं रहने पर आमतौर पर महसूस किया जाता है कि वो होते तो यह होता, वो होते तो यह नहीं होता और यही खालीपन राजेन्द्र माथुर के जाने के बाद लग रहा है। यूं तो 8 अगस्त को राजेन्द्र माथुर का जन्मदिवस है किन्तु उनके नहीं रहने के पच्चीस बरस की रिक्तता आज भी हिन्दी पत्रकारिता में शिद्दत से महसूस की जाती है। राजेन्द्र माथुर ने हिन्दी पत्रकारिता को जिस ऊंचाई पर पहुंचाया, वह हौसला फिर द…

Read more

वर्तमान की भौतिकवादी मीडिया

August 8, 2015

डॉ. भूपेन्द्र सिंह गर्गवंशी/  मीडिया जगत से जुड़े लोग कुछ उस तरह के हो गए हैं जैसे पुराने समय में एक राज्य का महामंत्री। शायद इस कहानी को अधिकाँश लोग नहीं सुने होंगे। उस कहानी का सार यहाँ प्रस्तुत करना आवश्यक हो गया है। कहानी के अनुसार उक्त राज्य में अकाल पड़ गया था प्रजा में त्राहि-त्राहि मची थी। यह बात राजा के कानो तक नहीं पहुँची थी। राजा जब भीं भरी सभा में अपने खास महामंत्री से पूछता कि बताओ राज्य की प्रजा का क्या हाल है? तब महामंत्री उत्तर देता कि …

Read more

आलेख और भी हैं --

View older posts »