नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;b56577e29f13be77d7963874a5b2eded747e8ae6175;250;248a18dc533481296c196a9a27868b4ca6317bdc175;250;3f8bd1cf76134edb8bbd64fe531f169c10e5303f175;250;af0347f7aa7a1ce41ac53358e20894322b91294a175;250;d7e8ae76ee25a26a20d6338eb82953e905c2b955175;250;0bb624b0b1146fd3811a95d9917376463b22c057175;250;96d273a4ebcc2d2820e13ef47799c6fc0d9dbdec

सम्पादक

लीना


Print Friendly and PDF

सोशल मीडिया ही एकमात्र विकल्प : उर्मिलेश

2014.08.31

मंडल संसद का आयोजन

राज्यसभा टीवी न्यूज के संपादक व देश के जाने माने पत्रकार उर्मिलेश ने कहा है कि मीडिया देशहित के बदले कॉरपोरेट हित में काम कर रहा है। यह एक खतरनाक प्रवृत्ति है, जिससे सामाजिक न्याय की अवधारणा आहत हो रही है। इससे पिछड़े व वंचित वर्ग के सरोकारों पर कुठाराघात हो रहा है। शनिवार को पटना में सामाजिक संस्था बागडोर के तत्‍वावधान में आयोजित मंडल संसद को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मीडिया धर्म संसद व लव जेहाद जैसे शब्दों की आड़ में बहुसंख्यक समाज के हि…

Read more

दलितों को गाली न दें

2014.08.31

जनसत्ता में छपे, रमेश कुमार दुबे के आलेख पर प्रतिक्रिया

कैलाश दहिया/ जनसत्ता में 28.02.2014 की चौपाल में रमेश कुमार दुबे का आलेखनुमा पत्र छपा है, जिसमें ये आरक्षण के नाम पर ‘ब्राह्मणवादी सोच’ का झुनझुना बजा रहे हैं। कितनी हंसी की बात है कि एक ब्राह्मण यह लिख रहा है। दरअसल, इन्हें दलितों का जो थोड़ा बहुत उत्थान हुआ है, सहन नहीं हो रहा है। क्या इन्हें बताने की जरूरत है, आजादी के 66 वर्षों…

Read more

टीवी पत्रकार हरीश चन्द्र बर्णवाल को भारतेंदु हरिश्चंद्र पुरस्कार

2014.08.29

किताब “टेलीविजन की भाषा” के लिए ये पुरस्कार

IBN7 में कार्यरत वरिष्ठ पत्रकार हरीश चन्द्र बर्णवाल को साल 2011 के भारतेंदु पुरस्कार के लिए चुना गया है। उन्हें उनकी किताब “टेलीविजन की भाषा” के लिए ये पुरस्कार 9 सितंबर को सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर दोपहर 3 बजे न्यू मीडिया सेंटर (शास्त्री भवन के सामने) में आयोजित कार्यक्रम में देंगे। गौरतलब है कि भारत सरकार के सूचना प्रसारण मंत्रालय द्वारा दिया जाने वाला ये पुरस्कार …

Read more

कंपनी या कारू का खजाना...?

2014.08.24

बहुचर्चित शारदा घोटाला

तारकेश कुमार ओझा / एक कंपनी के कई कारोबार। कारोबार में शामिल पत्र - पत्रिकाओं का भी व्यापार। महिलाओं की एक पत्रिका की संपादिका का मासिक वेतन साढ़े सात लाख रुपए तो समाचार पत्र समूह के सीईओ का साढ़े सोलह लाख से कुछ कम। पढ़ने - सुनने में यह भले यह अविश्सनीय सा लगे, लेकिन है पूरे सोलह आने सच। वह भी अपने ही देश में।…

Read more

टाइमलाइन वार से रोचक बनी बिहार की राजनीतिक लड़ाई

2014.08.20

बीरेन्द्र कुमार यादव। बिहार की राजनीति लड़ाई अब जमीन से उठकर साइबर में पहुंच गयी है। नीतीश कुमार व सुशील मोदी के फेसबुक वार में अब नये खिलाडि़यों ने भी हस्‍तक्षेप शुरू कर दिया है। इसमें प्रमुख हैं जदयू के प्रदेश अध्‍यक्ष वशिष्‍ट नारायण सिंह। लालू यादव भी कभी-कभार फेसबुक पर अपना पटाखा फोड़ते रहते हैं और विवाद को बढ़ा भी देते हैं।…

Read more

कभी झंडा... तो कभी ट्रांजिसटर...!!

2014.08.16

बाजार का चर्चित फंडा ब्रांडिंग , पैकेजिंग और मार्केटिंग के जरिए ऐसे बाजीगर कूड़ा - करकट भी सोने के भाव बेचने का माद्दा रखते हैं

तारकेश कुमार ओझा/ पाक कला के कुशल कलाकार सब्जियों के छिलकों को मिला कर एक नई सब्जी बना देते हैं, जिसे खाने वाला अंगुलियां तो चाटता ही है, सम…

Read more

सुप्रीम कोर्ट की नवीनतम कार्रवाई से संलिप्त मंत्रियों और पदाधिकारियों की नींद उड़ी

2014.08.15

दैनिक हिन्दुस्तान 200 करोड़ सरकारी विज्ञापन घोटाला

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने विश्वस्तरीय 200 करोड़  के दैनिक हिन्दुस्तान सरकारी विज्ञापन घोटाला से जुड़े मुकदमा, जिसका नं0-स्पेशल लीव पीटिशन ।क्रिमिनल।- 1603 ।2013 है, जो मुंगेर ।बिहार। कोतवाली कांड संख्या-445 । 2011 की प्रमुख अभियुक्त व मेसर्स हिन्दुस्तान मीडिया वेन्चर्स लिमिटेड, प्रमुख कार्यालय-18-20,कस्तुरवा गांधी मार्ग, नई दिल्ली, की अध्यक्ष शोभ…

Read more

पत्रकार शिवशंकर सिंह नहीं रहे

2014.08.15

निधन से मीडिया जगत मर्माहत
गया। गया जिला के वरिष्ठ पत्रकार शिवशंकर सिंह का कल दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में इलाज के दौरान निधन हो गया। श्री सिंह पिछले एक पखवारा से गंभीर बीमारी से जूझ रहे थे। वे 45 वर्ष के थे। अचानक लंबी बीमारी से ग्रसित हुए शिवशंकर सिंह को नई दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनके निधन की खबर मिलते ही गया के पत्रकारों एवं बुद्धिजीवियों में शोक की लहर दौड़ गयी।…

Read more

प्रवीण बागी फिर से ईटीवी में

2014.08.14

संभालेंगे कंसल्टेंट की जिम्मेवारी

प्रवीण बागी रविवार से रामोजी फिल्म सिटी, हैदराबाद (ईटीवी का मुख्यालय) में कंसल्टेंट के रूप में नई जिम्मेवारी संभालेंगे। वे पहले भी पांच साल तक ईटीवी में काम कर चुके हैं। दरअसल उन्होने 2005 में इलेक्ट्रॉनिक मिडिया ईटीवी से ही शुरुआत की थी। वे हिंदुस्तान, भागलपुर से हैदराबाद गए थे।…

Read more

मुद्रण की नई तकनीक से तैयार होंगे कुशल प्रोफेशनल: प्रो. कुठियाला

2014.08.13

प्रिन्टिंग एवं पैकेजिंग क्षेत्र में रोजगार की असीम संभावनाएं : चंद्रशेखर मिश्र

भोपाल/ आधुनिक संचार क्रान्ति के युग में मुद्रण की नई तकनीक एवं विधाओं को विकसित करने में दक्ष प्रोफेशनल की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। इस क्षेत्र में तेजी से हो रहे तकनीकी विस्तार तथा उसमें विशिष्टिकरण की बढ़ती मांग को देखते हुए स्तरीय कुशल (प्रोफेशनल) वृत्तिज्ञ तैयार करने के उद्देश…

Read more

कस्तूरचंद गुप्त: मध्यप्रदेश की पत्रकारिता की पाठशाला

2014.08.08

9 अगस्त पुण्यतिथि पर 

राजेन्द्र अग्रवाल/ मिशन से प्रोफेशन में बदलने वाली पत्रकारिता का जब जब उल्लेख होता है तब तब कस्तूरचंद गुप्त का स्मरण सहज ही हो जाता है। अपने समय के प्रतिबद्ध पत्रकार श्री गुप्त पूरे जीवनकाल पत्रकारिता को समाजसेवा का आधार मानते रहे हैं। उनका मानना था कि समाज में जब सुनवाई की एक ऐसी जटिल प्रक्रिया है जहां एक गरीब पीड़ित व्यक्ति नहीं पहुंच सकता है, वहां पत्रकारिता ही एक ऐसा माध्यम है जो बिना किसी प्रक्रिया के पीड़…

Read more

स्वयं बांट रहे डिग्री- डिप्लोमा, दसवी फेल लोगों से ले रहे काम

2014.08.08

रामकिशोर पवार/ बैतूल। कथनी - करनी भिन्न, जहां पर धर्म नहीं पाखंड वहां- उक्त मुहावरा अकसर लोगों को आइना दिखाने के लिए काम में लाया जाता है। इस देश का दुर्भाग्य भी कुछ ऐसा ही है। पत्रकारिता के क्षेत्र में नामचीन चेहरों और संस्थानों द्वारा जिला मुख्यालय पर ऐसे लोगों से काम लिया जा रहा है जो कि दसवी पास भी नहीं है। पत्रकारो की शिक्षा के स्तर पर प्रेस कौसिंल भी सवाल उठा चुका है।…

Read more

आलेख और भी हैं --

View older posts »