मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;828103351aa17fe10e5964aaae8861bd15d1d716175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;2668145eaf436febb33b738b5c1b14372208aed4175;250;1933d3eb5437585560d91b09b19eabef1abeba41175;250;1d49a022684e9e84e017b90e1cf2d586a1494856175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;d46367fb31101646266af84a6720d25862003e88175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d175;250;3f8bd1cf76134edb8bbd64fe531f169c10e5303f175;250;0bb624b0b1146fd3811a95d9917376463b22c057

राष्ट्रीय सुर्खियां--

सम्पादक

डॉ. लीना


Print Friendly and PDF

जो ‘उनको’ है पसंद वही बात करेंगे?

June 25, 2017

आज मीडिया पूरी तरह विकलांग दिखाई दे रहा है

तनवीर जाफरी / आपातकाल के 1975-77 के दिनों को जहां कांग्रेस विरोधी दल लोकतंत्र की हत्या के दौर के रूप में याद करते हैं वहीं उन दिनों को मीडिया अथवा प्रेस का गला घोंटने के दौर के रूप में भी याद किया जाता है। 1977 में इंदिरा गांधी के अजेय समझे जाने वाले शासन को उखाड़ फेंकने में जहां स्वर्गीय इंदिरा गांधी की अनेक तानाशाहीपूर्ण बातें कारण बनीं वहीं प्रेस पर सेंसरशिप लग…

Read more

मीडिया विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के आविष्‍कारों पर लिखे: डॉ. हर्षवर्धन

June 23, 2017

राष्‍ट्र को ‘पोलियो मुक्‍त’ बनाने में मीडिया का महत्‍वपूर्ण योगदान

नई दिल्ली/ केन्‍द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, पृथ्‍वी विज्ञान और पर्यावरण, वन तथा जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने मीडिया से विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में होने वाले नवीन आविष्‍कारों के बारे में नियमित और व्‍यापक रूप से लिखने का आग्रह किया। आज विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वार…

Read more

चैनलों ने जनता का गला घोंट दिया है

June 22, 2017

ख़बरें न कर पाने की व्यथा और अच्छी ख़बरों को साझा करने की खुशी

रवीश कुमार/ टीवी में तो ग्राउंड रिपोर्टिंग खत्म ही हो गई है। इक्का दुक्का संवाददाताओं को ही जाने का मौका मिलता है और दिन भर उन पर लाइव करने का इतना दवाब होता है कि वे डिटेल में काम ही नहीं कर पाते हैं। जब तक वे रिपोर्ट बनाने की नौबत आती है, चैनल को उनकी ज़रूरत ही समाप्त हो चुकी होती है क्योंकि बहस की बकवासबाज़ी का वक…

Read more

कॉन्ट्रैक्चुअल कर्मियों को भी लाभ दें: सुप्रीम कोर्ट

June 19, 2017

मजीठिया वेतन बोर्ड की सिफारिशों का करना होगा पालन

नयी दिल्ली/ उच्चतम न्यायालय ने आज स्पष्ट किया कि सभी समाचार पत्रों एवं संवाद समितियों को मजीठिया वेतन बोर्ड की सिफारिशों का पूर्ण रूप से पालन करना ही होगा। न्यायालय ने कहा कि कोई भी समाचार संगठन अपनी खराब आर्थिक स्थितियों को आधार बनाकर वेतन बोर्ड की सिफारिशों को लागू करने से मना नहीं कर सकता है। शीर्ष अदालत ने कहा कि मजीठिया वेतन बोर्ड की सिफारि…

Read more

क्षेत्रीय चैनलों को पछाड़ते हुए महुआ प्लस सबसे आगे

June 17, 2017

रेटिंग सिस्टम में इस सप्ताह रहा टॉप पर

बॉक्स ऑफिस क्लेक्शन के बाद अब तमाम चैनलों के बीच भी टी आर पी की जंग आम बात हो गयी है। इस जंग में तमाम क्षेत्रीय चैनलों को पछाड़ते हुए महुआ प्लस इस सप्ताह सबसे आगे रही। बार्क रिपोर्ट के अनुसार रेटिंग सिस्टम में महुआ प्लस सबसे टॉप पर कायम रही। उत्तर भारत में खासा लोकप्रिय महुआ प्लस पूरी दुनिया में करोड़ो भोजपुरी दर्शकों का भी सबसे लोकप्रिय चैनल है। देश विदेश के भोजपुरिया दर्शकों के दिलों में अपनी …

Read more

चंपारण सत्याग्रह के शताब्दी वर्ष पर 8-9 को अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार

June 16, 2017

पत्रकारों के इस आयोजन में देश -विदेश के पत्रकारों का होगा जुटान 

मोतिहारी / पूर्वी चंपारण के मोतिहारी में चंपारण सत्याग्रह के शताब्दी वर्ष पर 8 व 9 जुलाई को चंपारण प्रेस क्लब द्वारा आयोजित अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार की सफलता को लेकर एक बैठक का आयोजन गांधी संग्रहालय में हुआ, जिसमें …

Read more

भारतीय सूचना सेवा में पत्रकारों के 72 पदों के लिए वैकेंसी

June 16, 2017

आवेदन करने की अंतिम तारीख 29 जून

भारतीय सूचना सेवा में पत्रकारों के 72 पदों के लिए वैकेंसी आई है. सूचना-प्रसारण मंत्रालय के अधीन भारतीय सूचना सेवा में पत्रकारों की भर्ती के लिए विज्ञापन संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की तरफ से निकाला गया है. यह वैकेंसी ग्रुप ‘बी’ के सीनियर ग्रेड की 72 पोस्ट के लिए है. ये पद मंत्रालय के देशभर में फैले विभिन्न मीडिया इकाइयों के लिए हैं.…

Read more

नेशनल हेराल्ड से उम्मीद जगी

June 15, 2017

12 जून को बंगलुरु में उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में इसके संस्मरणीय संस्करण का लोकार्पण किया गया

फ़िरदौस ख़ान/ अख़बारों का काम ख़बरों और विचारों को जन मानस तक पहुंचाना होता है. सूचनाओं के इसी प्रसार-प्रचार क…

Read more

नायडू करेंगे आकाशवाणी की प्रतिभाओं को सम्मानित

June 15, 2017

16 को दिए जायेंगे आकाशवाणी वार्षिक पुरस्कार

नयी दिल्ली/ सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम वेंकैया नायडू और राज्यमंत्री राज्यवर्धन राठौड़ आकाशवाणी की प्रतिभाओं को 16 जून को आकाशवाणी वार्षिक पुरस्कार प्रदान करेंगे।…

Read more

महात्मा गांधी के विचारों और लेखों का संरक्षण सभी की जिम्मेदारी: नायडू

June 13, 2017

संसद के पुस्तकालय के लिये महात्मा गांधी वांग्मय के 100 खंड भेंट किये

नयी दिल्ली/ सूचना एवं प्रसारण मंत्री वेंकैया नायडू ने आजादी के आंदोलन का स्वरूप तय करने में महात्मा गांधी के लेखों के महत्व का उल्लेख करते हुये आज कहा कि राष्ट्रपिता के विचारों और लेखों का संरक्षण और भावी पीढ़ियों तक उन्हें पहुंचाना सभी की जिम्मेदारी है। श्री नायडू ने यहां लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन…

Read more

उत्तर प्रदेश में पत्रकार सुरक्षा कानून लागू किए जाने की मांग

June 12, 2017

शाहजहांपुर/ शाहजहांपुर ग्रामीण पत्रकार एसोशिएसन ने प्रदेश सरकार से महाराष्ट्र की तरह उत्तर प्रदेश में भी पत्रकार सुरक्षा कानून लागू किए जाने की मांग की है। एसोशिएसन के अध्यक्ष राजीव शर्मा के नेतृत्व में पत्रकारों ने मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन संसदीय कार्यमंत्री और स्थानीय विधायक सुरेश खन्ना को सौंपा। ज्ञापन में प्रदेश में भी पत्रकार सुरक्षा कानून लागू किये जाने, पत्रकारों को कार्य के दौरान आसमयिक मृत्यु पर 30 लाख रूपये दिये जाने, नि:शुल्क उपचार, 60 वर्ष से अधिक उम्र के पत्…

Read more

जनवादी पत्रकारिता की बात करें

June 10, 2017

फ़िरदौस ख़ान/ख़बरों और विचारों को जन मानस तक पहुंचाना ही पत्रकारिता है. किसी ज़माने में मुनादी के ज़रिये हुकमरान अपनी बात अवाम तक पहुंचाते थे. लोकगीतों के ज़रिये भी हुकुमत के फ़ैसलों की ख़बरें अवाम तक पहुंचाई जाती थीं. वक़्त के साथ-साथ सूचनाओं के आदान-प्रदान के तरीक़ों में भी बदलाव आया. पहले जो काम मुनादी के ज़रिये हुआ करते थे, अब उन्हें अख़बार, पत्रिकाएं, रेडियो, दूरदर्शन और वेब साइट्स अंजाम दे रही हैं. पत्रकारिता का मक़सद जनमानस को न सिर्फ़ नित नई सूचनाओं से अवगत कराना है, बल्कि देश-दुनिया…

Read more

आलेख- ख़बरें और भी हैं

View older posts »