मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;828103351aa17fe10e5964aaae8861bd15d1d716175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;2668145eaf436febb33b738b5c1b14372208aed4175;250;1933d3eb5437585560d91b09b19eabef1abeba41175;250;1d49a022684e9e84e017b90e1cf2d586a1494856175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;d46367fb31101646266af84a6720d25862003e88175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d175;250;3f8bd1cf76134edb8bbd64fe531f169c10e5303f175;250;0bb624b0b1146fd3811a95d9917376463b22c057

राष्ट्रीय सुर्खियां--

सम्पादक

डॉ. लीना


Print Friendly and PDF

जी हाँ, खबर जिद्दी होती है!

January 22, 2017

अर्पण जैन 'अविचल'/ वो भी संघर्ष करती है, मंदिर-मस्जिद की लाइन-सी मशक्कत करती है, वो भी इतिहास के पन्नों में जगह बनाने के लिए जद्दोहद करती है, लड़ती- भिड़ती है, अपने सपनों को संजोती है, अपने अरमानों से जिद्द करती है, परेशान इंसान की आवाज़ बनकर, न्याय के मंदिर की भाँति निष्पक्षता के लिए , निर्भीकता का अलार्म बनने की कोशिश में, पहचान की मोहताज नहीं, पर एक अदद जगह की उम्मीद दिल में लिए, पराड़कर के त्याग के भाल से, चतुर्वेदी और विद्धयार्थी के झोले से निकलने के साहस के साथ, भ…

Read more

पत्रकारों का प्रांतीय सम्मेलन 31 को

January 22, 2017

पंचायत मंत्री श्री भार्गव, गृह मंत्री श्री सिंह विशेष रूप से और प्रदेश स्तर के प्रख्यात पत्रकार मौजूद रहेंगे

संतोष गंगेले /सागर। राष्ट्रीय  पत्रकार कल्याण परिषद दिल्ली के बैनर तले संभागीय मुख्यालय में 31 जनवरी दिन मंगलवार को पत्रकारों का प्रांतीय सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है। स्थानीय र…

Read more

भ्रामक विज्ञापनदाताओं पर नजर रखेगा आयुष मंत्रालय

January 20, 2017

आयुष मंत्रालय ने भारतीय विज्ञापन मानक परिषद् के साथ सहयोग के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए

नयी दिल्ली/ गंजापन दूर करने , लंबाई बढ़ाने , शुगर और कैंसर का शर्तिया इलाज करने जैसे भ्रामक विज्ञापन देकर भोली-भाली जनता को ठगने वालों की अब खैर नहीं होगी क्योंकि सरकार इन विज्ञापनदाताओं के खिलाफ पहले से अधिक सख्त कार्रवाई कर…

Read more

पटना पुस्तक मेला 4 फरवरी से

January 20, 2017

इस बार पुस्तक मेला का थीम है" कुशल युवा, सफल बिहार"  

साकिब ज़िया /पटना/  बिहार के पुस्तक प्रेमियों का पसंदीदा पटना पुस्तक मेला का जल्द ही शुभारंभ होने वाला है । राजधानी के ऐतिहासिक गांधी मैदान में इस मेला का आयोजन 4फरवरी से 14फरवरी तक किया जाएगा। पटना में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में संस्था, सेंटर फॉर रीडरशिप डेवलपमेंट, सीआरडी के अध्यक्ष रत्नेश्वर ने बताया कि इस बार के पुस्तक मेला का थ…

Read more

कैलाश चंद्र पंत को बृजलाल द्विवेदी सम्मान

January 18, 2017

मीडिया विमर्श के आयोजन में 11 फरवरी को होंगे अलंकृत

भोपाल। हिंदी की साहित्यिक पत्रकारिता को सम्मानित किए जाने के लिए दिया जाने वाला पं. बृजलाल द्विवेदी अखिल भारतीय साहित्यिक पत्रकारिता सम्मान इस वर्ष ‘अक्षरा’ (भोपाल) के संपादक श्री कैलाश चंद्र पंत  को दिया जाएगा।…

Read more

आईआईएमसी सभी भारतीय भाषाओं में पत्रकारिता पाठ्यक्रम शुरू करने का प्रयास करे: वेंकैया नायडू

January 17, 2017

आईआईएमसी ने "कम्युनिकेटर" पत्रिका फिर शुरू किया 

नई दिल्ली/ केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री श्री वेंकैया नायडू ने कहा कि जो छात्र भविष्य में पत्रकार बनने की महत्वकांक्षा रखते हैं उन्हें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि खबरों और विचारों का मिश्रण ना हो। उन्होंने कहा कि लक्ष्य हासिल करने के लिए प्रत्येक नवोदित युवा पत्रकार को खुले दिमाग से अधिकतम ज्ञान प्राप्त कर एक घटना को सही तरीके से पेश करना चाहिए।  उन…

Read more

प्रौद्योगिकी के बदलते दौर में फिल्म निर्माण एक लोकतांत्रिक प्रक्रिया में तब्‍दील हो गया है: कर्नल राठौर

January 16, 2017

सिरी फोर्ट ऑडिटोरियम में भारतीय पैनोरमा फिल्म समारोह का उद्घाटन

दिल्ली/ सूचना एवं प्रसारण राज्‍य मंत्री कर्नल राज्‍यवर्धन राठौर ने कहा है कि भारतीय पैनोरमा खंड में शामिल फिल्‍मों का दर्शकों के साथ भावनात्‍मक जुड़ाव है, क्‍योंकि वे अपनी संस्‍कृति, क्षेत्र एवं भाषा के साथ इन्‍हें बाकायदा जोड़ सकते हैं। फिल्‍मों के जरिए कहानी को पेश करने की कला में समय के साथ काफी बदलाव आया है …

Read more

मीडियाकर्मियों की बैठक में संघर्ष का ऐलान

January 15, 2017

पटना / पत्रकारों पर बढ़ते जानलेवा हमले /मजीठिया वेतन आयोग की अनुसंशाओ के अनुरूप वेतन की मांग करने पर समाचार पत्र एवं मीडियाप्रबंधनों द्वारा पत्रकारों / गैर पत्रकारों / मीडियाकर्मियों की छटनी /तबादला /तथा अन्य उत्पीड़न के खिलाफ बिहार प्रेस मेंस यूनियन के बैनर तले पत्रकारों /गैर पत्रकारों / मीडियाकर्मियों की एक बैठक 15 जनवरी 2017 को 12 बजे दिन में कूल्हड़िया काम्प्प्लेक्स, अशोक राजपथ, पटना में हुई । इस बैठक में हिंदी/उर्दू प्रिंट मिडिया और इलेट्रॉनिक मीडिया से जुड़े दर्जनों पत्रकारों/गैर पत्रक…

Read more

बीवाईएन ऑनलाइन बुक प्रोमोशनल कंपेन

January 15, 2017

मकसद बिहारी लेखकों को पाठक उपलब्‍ध कराना

‘वीरेंद्र यादव न्‍यूज’ आज से ऑनलाइन बुक प्रोमोशनल कंपेन शुरू कर रहा है। यह सुविधा बिहार के लेखकों की हिंदी में प्रकाशित पुस्‍तकों के लिए उपलब्‍ध करायी जाएगी। इसका मकसद बिहारी लेखकों को पाठक उपलब्‍ध कराना है। इसकी पहली कड़ी के रूप में मासिक पत्रिका ‘वीरेंद्र यादव न्‍यूज’ के अब तक प्रकाशित सभी पंद्रह अंकों को बुक फारमेट उपलब्‍ध कराया जा रहा है। इसकी कीमत 250 रुपये निर्धारित है। घर पहुंचा…

Read more

पाठक समझे तो कैसे समझे

January 13, 2017

इकोनोमी तू ही बता तू कैसी है, रोती है या हंसती है

एक पन्ने में बिजनेस घट रहा होता है तो दूसरे पन्ने पर उछालें मार रहा होता

रवीश कुमार/ कस्बा पर 6 जनवरी को बिजनेस अख़बारों पर एक पोस्ट किया था। इसमें केंद्रीय सांख्यिकी अधिकारी के डेटा की बात हुई थी कि नोटबंदी के कारणभारत की अनुमाति जीडीपी …

Read more

पत्रिका ‘समागम’ के प्रकाशन के 16 साल पूरे हुए

January 13, 2017

भोपाल। भारतीय समाज की ताकत नैतिक शिक्षा होती थी लेकिन शैक्षिक परिसरों में बाजार के प्रवेश के बाद नैतिक शिक्षा का लोप हो चुका है। आज आवश्यक हो गया है कि हम सब मिलकर प्राथमिक स्तर पर नैतिक शिक्षा को अनिवार्य करने पर जोर दें। समाज के इस ज्वलंत विषय को लेकर भोपाल से प्रकाशित शोध पत्रिका ‘समागम’ ने जनवरी 2017 का अंक ‘महात्मा की पाठशाला’ शीर्षक से प्रकाशित किया है। इस अंक के प्रकाशन के साथ ‘समागम’ ने अपने नियमित प्रकाशन के 16 साल भी पूरे कर लिए हैं।…

Read more

क्या हिन्दी अख़बार भी कूड़ा परोस रहे हैं?

January 11, 2017

ख़बर की धार ऐसी कर दी जाती है कि सरकार बहादुर या कलेक्टर तक नाराज़ न हों

रवीश कुमार/ मेरे ब्लॉग की क्षमता दस बीस हज़ार लोगों तक पहुंचने से ज़्यादा की नहीं होगी फिर भी मैं हिन्दी के करोड़ों पाठकों से यह सवाल करना चाहता हूं कि क्या आपको पता है कि हिन्दी चैनलों की तरह हिन्दी के अख़बार आपको कूड़ा परोस रहे हैं। पिछले दस सालों में चैनलों की खूब आलोचना हुई है। इसका असर ये…

Read more

आलेख और भी हैं --

View older posts »