Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

सुधीर तैलंग को याद करते हुए..

मनोज कुमार/ सुधीर तुम तो कमजोर निकले यार.. इत्ती जल्दी डर गए.. अरे भई कीकू के साथ जो हुआ.. वह तुम्हारे साथ नहीं हो सकता था.. ये बात ठीक है कि अब हम लोग तुम्हारी कूची के काले-सफेद रंग से डरने लगे हैं.. डरावना तो तब और भी हो जाता है जब तुम रंगों और दो-एक लाइन में इतना कह देते हो कि सब लोग हमाम में खड़े नजर आते हैं.. ये ठीक है सुधीर हम लोग तुम से डरते थे लेकिन तुम हमसे डर कर चले गए.. डरने के लिए तो कीकू भी डर गया था.. अब वह किसी की नकल उतारने में क्या.. खुद की नकल करने में भी डर रहा होगा.. कीकू की हालत से तुम इतने घबरा गए.. तुम्हारी कूची के रंग तो पुराने है.. तेवर शायद इससे और ज्यादा पुराना.. सुधीर तुम इस तरह चले जाओगे तो इनकी तो मौजा ही मौजा हो जाएगी.. ये तुम्हें हारते देखना चाहते थे.. और तुम हार गए.. सच तो यह है कि तुम हारे नहीं हो.. सुधीर हारने वालों में नहीं है.. हार कर भी जीत जाने वाले का नाम सुधीर है.. तुम्हारी कूची से अब आग नहीं निकलेगी.. यह भी सच है.. तो यह भी सच है कि जो कुछ उगल गए हो.. उसे ये कैसे निगल पाएंगे.. इनकी गले की फांस बने रहोगे.. यह फांस ही सुधीर की पहचान है.. जो सुधीर को गटक सके.. अभी वह गला नहीं बना.. जो सुधीर को पचा सके.. वह गैस की दवा नहीं बनी.. जो सुधीर को भुला सके.. वह गोली नहीं बनी.. हां.. हां.. इतना जरूर है सुधीर.. तुम चले जाने के बाद भी इनके लिए बिजूका बन कर राजनीति के खेत में खड़े रहोगे.. इनकी मनमानी की फसल को बढऩे नहीं दोगे.. सुधीर का यह बिजूका.. समाज के पहरेदार की तरह हमेशा हमारे साथ रहेगा..वह पहरेदार जो आवाज नहीं लगाता है जागते रहो.. लेकिन कहता है.. सोना नहीं है.. खोना नहीं है.. सो गए तो खो दोगे.. और खो दोगे तो.. अपनी अगली पीढ़ी को क्या जवाब दोगे.. सुधीर का बिजूका समाज को सोने नहीं देता है.. वह अपने रंग और शब्दों से समाज की नींद को भगाता है.. नीम बेहोशी में डूबते समाज को चिकोटी लेकर जगाता है.. जो भाव समझे वह मुस्करा देता है.. जो न समझे.. वह आगबबूला हो जाता है.. सुधीर के इस पंच या उस पंच का क्या कहें.. सुधीर न कभी हारा है न कभी हारेगा.. वो तो लक्ष्मण अकेला हो गया था.. इसलिए सुधीर चला गया उसके पास.. लक्ष्मण का संदेशा आया था.. एक बरस बीत गया.. मजे में हूं यहां.. मेरी कूची से डरते नहीं.. लालू की तरह लेते हैं मजा.. तुम भी आ आजो.. हम दोनों मिलकर रचेंगे एक नया संसार.. कूची और शब्दों से कर देंगे व्यवस्था को छलनी छलनी.. जो बिगड़ रहे हैं वह संभल जाएंगे.. थोड़ा गुस्सा करेंगे.. फिर पास बिठायेंगे.. लक्ष्मण और सुधीर की जोड़ी.. फिर एक आड़ी-तिरछी रेखाओं में कॉमन मैन के मन में हमेशा हमेशा के लिए बस जाएंगे..सुधीर खूब याद आवोगे।

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना