Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

जयप्रकाश मानस को मुंशी प्रेमचंद सम्मान

नेल्सन कला सोसायटी की ओर से यह सम्मान भारतीय ग्राम्य समाज के यथार्थ और लोक-जीवन पर केंद्रित रचनात्मक लेखन और अबाध क्रियाशालता के लिए दिया जा रहा है 

भिलाई । सुप्रसिद्ध मूर्तिकार पद्मश्री जे. एम. नेल्सन द्वारा स्थापित नेल्सन कला सोसायटी की ओर से प्रतिवर्ष दिया जानेवाला प्रतिष्ठित मुंशी प्रेमचंद सम्मान-2015 हिंदी के सुपरिचित कवि, निबंधकार जयप्रकाश मानस को दिया जायेगा । यह सम्मान पिछले 20 वर्षों से लगातार भारतीय ग्राम्य समाज के यथार्थ और लोक-जीवन पर केंद्रित रचनात्मक लेखन और अबाध क्रियाशालता के लिए दिया जा रहा है ।  श्री मानस की अब तक 15 से अधिक कृतियाँ प्रकाशित, पुरस्कृत हो चुकी हैं जिनमें कविता, ललित निबंध, समीक्षा और लोक आधारित प्रमुख हैं ।

श्री मानस को यह सम्मान 31 जुलाई के दिन प्रेमचंद जयंती के अवसर पर आयोजित समारोह में प्रदान किया जायेगा । सम्मान स्वरूप उन्हें 11,000 की राशि, श्री नेल्सन द्वारा निर्मित प्रेमचंद की आवक्ष प्रतिमा, प्रतीक चिन्ह, प्रशस्ति पत्र आदि भेंट किये जायेंगे । इस अवसर पर ‘प्रेमचंद और भारतीयता’ पर एंक संगोष्ठी का भी आयोजन किया गया है ।

सम्मान चयन समिति के सुप्रसिद्ध मूर्तिकार पद्मश्री जे. नेल्सन, संयोजक डॉ. रजनी नेल्सन, डॉ. सुधीर शर्मा और प्रशांत कानस्कर थे ।

2008 से पद्मश्री जे. मार्टिन नेल्सन के संयोजन में प्रतिवर्ष दिया जाना वाला यह बहुचर्चित सम्मान अब तक कथाकार डॉ. परदेशी राम वर्मा, कथाकार-कवि उदयप्रकाश, कथाकार शंशाक, वरिष्ठ रचनाकार डॉ. नलिनी श्रीवास्तव, वरिष्ठ ग्राम्य पत्रकार प्रशांत कानस्कर, वरिष्ठ छत्तीसगढ़ी लेखक व भाषाविद् डॉ. पालेश्वर शर्मा को दिया जा चुका है।

नेल्सन कला सोसायटी, भिलाई के प्रवक्ता पी. कानस्कर द्वारा जारी विज्ञप्ति । मो.-07587796505

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना