Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts September 2016

हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने हेतु पत्रकारों की गोष्ठी आयोजित

नई दिल्ली। भारत को आजाद हुए 70 साल हो गये पर आज तक राष्ट्र की कोई भाषा नहीं बन सकी। इसी संदर्भ में हिन्दी वेलफेयर ट्रष्ट, मुम्बई की ओर से हिन्दी को राष्ट्रभाषा दर्जा दिलाने के लिए भारतीय पत्रकारों का एक अभियान समस्त भारत में चलाया जा रहा है। इस कड़ी में मुम्बई, कोलकाता, भोपाल, लखनऊ…

Read more

सर्वश्रेष्ट ब्लॉगर बने तारकेश कुमार ओझा

पश्चिम बंगाल के वरिष्ठ हिंदी पत्रकारों में शामिल व सम - सामयिक विषयों पर निरंतर लेखन कर रहे पत्रकार तारकेश कुमार ओझा को एक बार फिर दैनिक जागरण ने 'बेस्ट ब्लॉगर आफ द वीक' घोषित किया है। उन्हें यह सम्मान हिंदी दिवस पर लिखे गए उनके चर्चित ब्लॉग' झिझक मिटे तो हिंदी बढ़े' के लिए दिया गया है।…

Read more

"आज" अखबार के मीडियाकर्मियों ने मजीठिया नहीं मिलने पर की शिकायत

पटना. आज अखबार पटना के दर्जनों मीडियाकर्मियों ने मजीठिया वेज बोर्ड नहीं दिए जाने से नाराज होकर बिहार के श्रम संसाधन विभाग के प्रधान सचिव को शिकायत पत्र भेजा है.…

Read more

झिझक मिटे तो हिंदी बढ़े ...!!

हिंदी दिवस के लिए विशेष 

तारकेश कुमार ओझा / एक बार मुझे एक ऐसे समारोह में जाना पड़ा, जहां जाने से मैं यह सोच कर कतरा रहा था कि वहां अंग्रेजी का बोलबाला होगा। सामान्यतः ऐसे माहौल में मैं सामंजस्य स्थापित नहीं कर पाता। लेकिन मन मार …

Read more

बी0 पी0 मंडल जयंती समारोह- 2016

समाजिक न्याय के पक्ष में  वक्ताओं ने भरी  हुंकार 

सरस्वती चन्द्र/ कटिहार  गत वर्षों की भाँति इस वर्ष भी सामाजिक न्याय के योद्धा, द्वितीय पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष महामना…

Read more

मोहक भाषा और प्रभावशाली शिल्प के यशस्वी कथाकार थे राजा राधिका रमण

साहित्य सम्मेलन में आयोजित हुई जयंती

पटना । विलक्षण प्रतिभा के रस-सिद्ध साहित्यकार और शैलीकार थे राजा राधिका रमण प्रसाद सिंह्। वे वहुभाषा-विद थे। संस्कृत, अँग्रेजी, उर्दू और फ़ारसी का भी गहन-ज्ञान था उन्हें। यही कारण था कि उनकी …

Read more

शोध पत्रिका ‘समागम’ का सितम्बर अंक हिन्दी पर

शोध पत्रिका ‘समागम’समय समय पर विविध विषयों पर अंक केंद्रित करता रहा है. नया सितम्बरअंक हिंदी को समर्पित है. इस अंक में इस बात की पड़ताल करने की कोशिश की गई है कि आखि…

Read more

पत्रकारों को भी छूट मिले विज्ञापन का

पत्रकार खुलेआम पार्टी का प्रचार कर रहे हैं तो प्रोडक्ट का प्रचार क्यों न करें

रवीश कुमार/ अमर उजाला के भीतरी पन्ने पर भाजपा सांसद को ब्लैक मैजिक कूकर का …

Read more

हिन्दी साहित्य सम्मेलन में आरंभ हुआ ‘पुस्तक चौदस मेला’

मौके पर गोवा की राज्यपाल और लेखिका डा मृदुला सिन्हा ने कहा, साहित्य संस्कृति का वाहक है पुस्तक 

पटना। साहित्य संस्कृति का वाहक है। …

Read more

सृजनगाथा अंतर्राष्ट्रीय साहित्य सम्मानों के लिए प्रविष्टियाँ आमंत्रित

प्रविष्टियाँ 30 नवंबर 2016 तक भेजें 

रायपुर । अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी और हिंदी-संस्कृति को प्रतिष्ठित करने के लिए साहित्यिक वेब पत्रिका ‘सृजनगाथा डॉट कॉम’ द्वारा प्रतिवर्ष दिए जाने वाले सम्मानों व पुरस्कारों के लिए रचनाकारों, प्र…

Read more

समाज और प्रशासन की कड़ी है मीडिया

हिंदी विवि के जनसंचार विभाग में मीडिया संवाद

वर्धामीडिया और प्रशासन का अन्योनाश्रय संबंध है। आजादी के लगभग 70 साल बाद भी प्रशासन, समाज के बीच अपनी जगह बनाने में सफल नहीं हो पा रहा है। ग्रामीण इलाकों में लोग पुल…

Read more

डॉ. सीताराम दीन और डॉ. उषा रानी की रचनाएं हमारी धरोहर:नीरज

स्मृति में साहित्य-ब्लॉग और साहित्य-पोर्टल की महाकवि के हाथों हुई शुरुआत

लखनऊ/ महाकवि पद्म विभूषण गोपाल दास नीरज ने बृहस्पतिवार 01 सितंबर 2016 को प्रख्यात साहित्यकार, कव…

Read more

मीडिया के विस्तार से बढ़ती प्रतिस्पर्धा के लिए आत्म-नियमन और उचित संयम जरुरी : वेंकैया नायडू

केन्‍द्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री श्री एम वेंकैया नायडू ने दो दिवसीय क्षेत्रीय संपादकों के सम्मेलन का उद्घाटन किया,…

Read more

हरीश बर्णवाल की नई किताब है मोदी सूत्र

ब्लूम्सबरी कर रहा है प्रकाशित

टीवी पत्रकार हरीश चन्द्र बर्णवाल की पांचवीं किताब “मोदी सूत्र” प्रकाशित हो रही है। ये किताब दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित और हैरी पॉटर सीरीज छापने वाले प्रकाशक ‘ब्लूम्सबरी’ से प्रकाशित हो रही है। नाम के अनुरूप ये किताब प्…

Read more

मनोरंजन का संसार और बदलता सांस्कृतिक परिदृश्य पर संगोष्ठी कल

मुम्बई प्रेस क्लब में 2 सितम्बर को माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय का कार्यक्रम

Read more

15 blog posts

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना