Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

पत्रकार शिवशंकर सिंह नहीं रहे

निधन से मीडिया जगत मर्माहत
गया। गया जिला के वरिष्ठ पत्रकार शिवशंकर सिंह का कल दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में इलाज के दौरान निधन हो गया। श्री सिंह पिछले एक पखवारा से गंभीर बीमारी से जूझ रहे थे। वे 45 वर्ष के थे। अचानक लंबी बीमारी से ग्रसित हुए शिवशंकर सिंह को नई दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनके निधन की खबर मिलते ही गया के पत्रकारों एवं बुद्धिजीवियों में शोक की लहर दौड़ गयी।

विगत 20 वर्षों से प्रिन्ट मीडिया से जुड़े शिवशंकर सिंह ने मगध क्षेत्र में अपनी अलग पहचान कायम की थी। उन्होंने पत्रकारिता के उच्च मानदण्ड को स्थापित किया था।

शिवशंकर सिंह के निधन की खबर सुनते ही गया जिला श्रमजीवी पत्रकार एवं अन्य पत्रकार यूनियन से जुड़े लोगों में शोक की लहर दौड़ गयी। शिवशंकर सिंह के असामयिक निधन पर श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के बिहार प्रदेश अध्यक्ष सह राष्ट्रीय महासचिव कमलेश  कुमार सिंह, गया जिलाध्यक्ष डा. सरदार सुरेन्द्र सिंह, महासचिव श्याम भंडारी, कोषाध्यक्ष रंजन सिन्हा, नवलेश बर्थवार, वयोवृद्ध साहित्यकार गोवर्द्धन प्रसाद सदय, शमी अहमद, रत्नेश कुमार, सनत मिश्रा, मनीष भंडारी, कुमुद रंजन, नीरज कुमार, अक्षय कुमार सिंह, संजय कुमार सिंह, सुभाष कुमार, संजीव कुमार सिन्हा, कमल नयन, देवव्रत मंडल, पंकज कुमार, अनूप चन्द्रा, नित्तम राज, सूर्य प्रताप श्रीकांत, विनय मिश्रा, भोला सरकार, अजीत कुमार, अरुण कुमार, सुनील नाग, नारायण मिश्रा, राजेश कुमार, मिक्की उर्फ राजेश सिंह, गणेश प्रसाद, नंदन शर्मा, गोपाल प्रसाद सिन्हा, डाॅ. राजीव कुमार, रविशंकर कुमार, सुनील कुमार सिन्हा, प्रियदर्शन, रौशन कुमार, कंचन कुमार सिन्हा, प्रसनजीत चक्रवर्ती, विमलेंदू चैतन्य, फैजान अजीजी, सहित पत्रकारों व बुद्धिजीवियों ने गहरा शोक व्यक्त किया है।( कुमुद रंजन के फेसबुक वाल से )

 



 

 

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना