Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

वेब मीडिया पर संगोष्‍ठी 16 को

दस वेब लेखक होंगे सम्‍मानि 

विचार पोर्टल प्रवक्‍ता डॉट कॉम 'वेब मीडिया की बढ़ती स्‍वीकार्यता' विषय पर एक संगोष्‍ठी का आयोजन करने जा रही है। यह संगोष्‍ठी 16 अक्‍टूबर 2014 को स्‍पीकर हॉल, कांस्टिट्यूशन क्‍लब, नई दिल्‍ली में सायं 4.30 बजे आयोजित होगी। 'प्रवक्‍ता' के छह साल पूरे होने के अवसर पर आयोजित यह कार्यक्रम कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्‍वविद्यालय, रायपुर (छत्‍तीसगढ़) द्वारा संचालित कबीर संचार अध्‍ययन शोधपीठ के सहयोग से संपन्‍न होगा। 

इस संगोष्‍ठी के मुख्‍य अतिथि हैं- केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण राज्‍यमंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) श्री प्रकाश जावडेकर, वक्‍तागण हैं- यथावत पत्रिका के संपादक श्री रामबहादुर राय, वरिष्‍ठ लेखक एवं स्‍तंभकार श्री ए. सूर्यप्रकाश, कबीर संचार अध्‍ययन शोधपीठ के निदेशक डॉ. आर. बालशंकर, साहित्‍यशिल्‍पी डॉट कॉम के संपादक श्री राजीव रंजन प्रसाद तथा कार्यक्रम की अध्‍यक्षता करेंगे कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार वि‍श्‍वविद्यालय, रायपुर (छत्‍तीसगढ़) के कुलपति डॉ. सच्चिदानंद जोशी। 

उपरोक्‍त जानकारी देते हुए प्रवक्‍ता डॉट कॉम के संपादक श्री संजीव सिन्‍हा ने बताया कि वेब मीडिया रेडियो, प्रिंट और इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया का विकल्‍प बनकर उभरा है। सुदूर देहात में जहां अभी भी समाचार-पत्र नहीं पहुंच पाते, वहां मोबाइल के जरिए समाचार पहुंचने लगे हैं। वेब मीडिया की बढ़ती स्‍वीकार्यता पर जहां संगोष्‍ठी में चर्चा होगी वहीं गत वर्ष की भांति इस बार भी दस लेखकों को प्रवक्‍ता सम्‍मान से सम्‍मानित किया जाएगा, जिनमें सर्वश्री पंडित सुरेश नीरव, श्री अशोक गौतम, श्री विजय कुमार, श्रीमती बीनू भटनागर, श्री गौतम चौधरी, श्री शादाब जाफर ‘शादाब’, डॉ. सौरभ मालवीय, सुश्री सारदा बनर्जी, श्री हिमांशु शेखर एवं श्री शिवानंद द्विवेदी ‘सहर’ के नाम उल्‍लेखनीय हैं। इसके साथ ही तृतीय प्रवक्‍ता ऑनलाइन लेख प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्‍कृत भी किया जाएगा। 

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना