Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

पत्रकार से अभद्रता

कुमोद कुमार/ पटना। बरुराज थाना के मुंशी ने राष्ट्रीय सहारा के पत्रकार मुन्ना कुमार को धक्का देकर थाने परिसर से बाहर निकाल दिया गया और अभद्र व्यवहार किया।

मुन्ना एक न्यूज़ के सिलसिले में थाना गए थे। उन्हें खबर मिली कि एक महिला की जहर खाकर हत्या की सूचना मिलने पर बरुराज पुलिस ने बिना एफआईआर किये दो आरोपित को गिरफ्तार किया है। सूचना मिलने पर हत्या की न्यूज़ लेने पहुचे। यहाँ मुंशी ने बरुराज राष्ट्रीय सहारा के रिपोर्टर मुन्ना कुमार  को धक्का देकर थाने परिसर से बाहर निकाल दिया। मुंशी ने कहा कि कोई मीडिया मेरा कुछ नही बिगाड़ सकती है। जाओ जो करना है कर लेना।

वहीँ मौके पर पहुचे मोतीपुर संचालक सह प्रखंड पत्रकार संघ बिहार के संचालक विकास कुमार गुप्ता उन्हें वहां से लेकर घर पहुचे तत्काल इस बात की सुचना मोतीपुर सर्किल इंस्पेक्टर को दिया लेकिन इंस्पेक्टर की ओर से मुंशी के विरुद्ध कोई ठोस कदम नही उठाया गया। देर बाद एसएसपी श्री मिश्रा जी को जानकारियो से अवगत कराया गया। फिर उन्होंने कार्रवाई का आश्वासन दिया।

शनिवार के दिन बिहार सरकार के मुजफ्फरपुर पुलिस महानिरीक्षक पारसनाथ जी, डीआइजी और बिहार सरकार के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह जी,सीआईडी अपराध के महानिदेशक विनय जी,बिहार सरकार जनसम्पर्क पदाधिकारी अनिल चौधरी, बिहार पुलिस के महानिदेशक प्रमोद कुमार ठाकुर जी सहित कई अन्य पदाधिकारियो से मोबाईल के द्वारा उचित न्याय की गुहार लगाई गई हैं।

वही पीड़ित पत्रकार ने बताया की मुंशी का रवैया बहुत ख़राब होता जा रहा है। और एक बार नही इसे पूर्व दिनों में भी इस तरह की बाते मेरे साथ हुई हैं।

पीड़ित पत्रकार मुंशी के निलंबन की मांग पर अड़े हुए हैं। वही मिडिया फॉर बोर्डर हार्मोनी के राष्ट्रिय अध्यक्ष श्री अमरेंद्र तिवारी, प्रखंड पत्रकार संघ बिहार के संचालक विकास कुमार गुप्ता ने बताया कि अब पत्रकारों पर प्रशासन की लापरवाही कतई बर्दाश्त नही की जायगी। सभी संगठन एकमत हैं।

अगर मुंशी को निलंबित नहीं किया जाता है तो सभी पत्रकार संगठन अपने सदस्यों के लिए इट की इट बजाने पर भी मजबूर हो जायँगे।

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना