Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

गणेश शंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब का प्रांतीय सम्मेलन संपन्न

दमोह/ गणेश शंकर विद्यार्थी की 125वीं जयंती के अवसर पर गणेश शंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब का प्रांतीय सम्मेलन एवं राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र हमारा मेट्रो भोपाल के सौजन्य से भोपाल के गांधी भवन में ‘‘लोकतंत्र में मीडिया की भूमिका’’ विषय पर गोष्ठी  26/10/2014 को आयोजित की गई जिसमें मध्यप्रदेश के सभी जिलो के वरिष्ठ एवं युवा पत्रकारों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में श्री शिव चौबे (राजनैतिक सलाहकार, मुख्यमंत्री), श्री गिरीश शर्मा (पत्रकार एवं पार्षद), श्री दीपक तिवारी (द वीक), श्री पुष्पेंद्र पाल (माखन लाल पत्रकारिता विवि के प्रोफेसर), श्री कीर्ति राणा (दंबग दुनिया), श्री चंदा बार्गल, श्री माखन विजयवर्गीय (संभागीय अध्यक्ष), श्री संतोश गंगेले (प्रदेश अध्यक्ष), श्री सरमन नंगेंले (संपादक एम.पी पोस्ट), श्री अवधेश भार्गव (भारत समाचार), श्री राममोहन कुशवाहा एवं श्री पवन देवलिया उपस्थित थे। कार्यक्रम का आयोजन श्री अनोखे लाल द्विवेदी जिला अध्यक्ष (दैनिक समाचार पत्र हमारा मेट्रो संपादक), श्री अनिल व्यास (जिला सचिव), श्री शैलेन्द्र मिश्रा (संवाददाता टीकमगढ़), श्री संजय मालवीया (विषेश संवाददाता) के द्वारा संपन्न हुआ। इस अवसर प्रदेश के अन्य पत्रकार श्री राज पाठक (जिला अध्यक्ष, व सुदर्शन टीवी न्यूज जिला दमोह), श्री दिनेश जमींदार (राजगढ़ जिलाअध्यक्ष), श्री श्रीनिवास चौबे (संभागीय सचिव), श्री राजकुमार शर्मा (जिला अध्यक्ष, सीहोर), श्री महेन्द्र सिंह चौहान, श्री संजय श्रीवास्तव (हरदा), श्री मथुरा प्रसाद परमार (पत्रकार) उपस्थित रहे। जिसमे पत्रकारिता एवं संगठन के कार्य हेतु सम्मान पत्र प्रदान किया गया। गणेश शंकर विद्यार्थी प्रेस क्लब द्वारा वर्ष 2013 का गणेश शंकर विद्यार्थी सम्मान श्री रामभुवन सिंह कुशवाह (साहित्यकार) एवं पवन देवलिया को दिया गया। विभिन्न पत्रकारों ने गणेश शंकर विद्यार्थी के जीवन से संबंधित विचार व्यक्त किए। जिसमें अनोखे लाल द्विवेदी के द्वारा अवगत कराया गया गणेश शंकर विद्यार्थी का जन्म 25 मार्च 1890 को म.प्र. की वीर प्रसूता भूमि पर हुआ विद्यार्थी जी बचपन से ही उग्रवादी विचारधारा के व्यक्ति थे। अमर शहीद और कलम के धनी गणेश शंकर विद्यार्थी जैसे जुझारु व्यक्त्वि ने पत्रकारिता के जरीये स्वराज को जनांदोलन बना डाला और अपने जीवन में 5 बार जेल यात्रा करके भी ब्रिटिश सरकार के विरुद्ध उनका जोश बढ़ता गया जिनके नाम की मिसाल भारत के आजादी के इतिहास में सदा – सदा के सुनहरे पृष्ठ पर अंकित हो गई। 16 वर्ष की अल्प आयु में ही “हमारी आत्मोसर्गता” नामक पुस्तक लिखी थी। विद्यार्थी जी शुरु से ही अंहिसात्मक विचाराधारा के विरोधी रहे, बचपन से ही इनके संबंध महामना पंडित मदन मोहन मालवीया एवं भगत सिंह जी से रहे। 1931 में एक मुस्लिम महिला को बचाते हुए शहीद हुए। इसी उपलक्ष्य में श्री सरमन नंगेंले जी ने सोशल मीडिया पर प्रकाश डाला जिसमें उन्होंने समाज में सोशल मीडिया की उपयोगिता एवं दुष्प्रभाव पर बिन्दु प्रकट किए। माखन लाल चतुर्वेदी पत्रकारिता के वरिष्ठ प्रोफेसर श्री पुष्पेंद्र पाल जी ने अपने उद्बोधन में आज के युग में मीडिया को समाज का चौथा स्तंभ बताकर एवं पत्रकारिता को आज के युवा पीढी़ से जोड़ते हुए युवा पत्रकारों का मार्गदर्शन किया। वरिष्ठ पत्रकार श्री दीपक तिवारी “द वीक” के विषेश संवाददाता ने लोकतंत्र में मीडिया की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए युवा पत्रकारों को अपने अनुभव बताए। श्री दीपक जी ने पत्रकारों से जु़ड़ी उनकी समस्याओं के विषय के बारे में विस्तार से बताया। श्री राज पाठक (जिला अध्यक्ष, व सुदर्शन टीवी न्यूज जिला दमोह) ने अपने विचार व्यक्त किए। राष्ट्रीय दैनिक हिन्दी समाचार पत्र हमारा मेट्रो के प्रकाशक श्री राजकुमार अग्रवाल (दिल्ली) नें श्री अनोखे लाल द्विवेदी (संपादक), श्री संजय मालवीया, श्री अनिल व्यास, श्री शैलेन्द्र मिश्रा एवं अन्य सदस्यों को कार्यक्रम के सफल आयोजन पर फोन पर बधाई दी।
राज पाठक.
मो.09669689459
राष्ट्रीय समाचार रिपोर्टर.

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना