Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts : "मीडिया पुस्तक समीक्षा "

नागरिक पत्रकारिता की आवश्यकता को रेखांकित करती पुस्तक

मीडिया शिक्षक डॉ. पवन सिंह मलिक के सम्पादन में है पुस्तक 

लोकेन्द्र सिंह/ सूचनाओं का आदान-प्रदान करना हम सबका मानव स्वभाव है। इस प्रवृत्ति का एक ही अर्थ है कि प्रत्येक व्यक्ति के भ…

Read more

संभावना और चुनौतियों के बीच मूल्यानुगत मीडिया का आग्रह

लोकेंद्र सिंह/ सक्रिय पत्रकारिता और उसके शिक्षण-प्रशिक्षण के सशक्त हस्ताक्षर प्रो. कमल दीक्षित की नयी पुस्तक ‘मूल्यानुगत मीडिया : संभावना और चुनौतियां’ ऐसे समय में आई है, जब मीडिया में मूल्यहीनता दिखाई पड़ रही है। मीडिया में मूल्यों और सिद्धांतों की बात तो सब कर रहे हैं, लेकि…

Read more

पत्रकारिता के दार्शनिक आयाम का आधार है 'आदि पत्रकार नारद का संचार दर्शन'

लोकेन्द्र सिंह। भारत में प्रत्येक विधा का कोई न कोई एक अधिष्ठाता है। प्रत्येक विधा का कल्याणकारी दर्शन है। पत्रकारिता या कहें संपूर्ण संचार विधा के संबंध में भी भारतीय दर्शन उपलब्ध है। देवर्षि नारद का संचार दर्शन हमारे आख्यानों में भरा पड़ा है। हाँ, यह और बात है कि वर्तमा…

Read more

दिल्ली में उर्दू पत्रकारिता

शाहिदुल इस्लाम की उर्दू पत्रकारिता से सम्बंधित पुस्तक ‘दिल्ली में असरी उर्दू सहाफ़त‘,पर बिहार के जाने माने लेखक श्री जाबिर हुसैन जी का एक आलेख…

Read more

‘कम्युनिटी रेडियो’: संचार माध्यम के लिए अहम पुस्तक

समीक्षा- संजय कुमार। नया ज्ञानोदय के सम्पादक लीलाधर मंडलोई ने रेडियो पत्रकारिता पर पत्रकार मनोज कुमार की सद्यः प्रका…

Read more

मीडिया के चर्चित चेहरों से मुलाकात कराती एक पुस्तक

लोकेंद्र सिंह/​समीक्षक।  हम जिन्हें प्रतिदिन न्यूज चैनल पर बहस करते-कराते देखते हैं। खबरें प्रस्तुत करते हुए देखते हैं। अखबारों और पत्रिकाओं में जिनके नाम से प्रकाशित खबरों और आलेखों को पढ़कर हमारा मानस बनता है। मीडिया गुरु और लेखक संजय द्विवेदी द्वारा संपादित…

Read more

किताब में 'रिपोर्टिंग की क्लास'

लोकेन्द्र सिंह / पुस्तक समीक्षा । पत्रकारिता पर यूं तो बहुत किताबें उपलब्ध हैं। पत्रकारिता के सबसे महत्वपूर्ण आयाम रिपोर्टिंग के संबंध में भी समय-समय पर अनेक किताबें आती रही हैं। इन सब किताबों के बीच …

Read more

पत्रकारिता जगत के बदलाव को रेखांकित करता पुस्तक

मीडिया: भूमंडलीकरण और समाज

पुस्तक समीक्षा / कीर्ति सिंह । पत्रकारिता जगत में काफी बदलाव आ गया है। हर पहलू में विकास हुआ है। इन्हीं विकासों को राजनीतिक विशेषज्ञ…

Read more

टेलीविजन प्रोडक्शन: अंधेरी सुरंग में जलती मशाल

अवधेश कुमार यादव/ टेलीविजन को भले ही ‘बुद्धूबक्शा‘ कहा जाता है, लेकिन सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी का पिछला 22 बरस इसके नाम रहा है। इस द्श्य-श्रव्य माध्यम ने अपने चमक और दमक के दम पर न केवल समाज में बदलते मूल्यों व संदर्भो को प्रतिष्ठापित किया है, बल्कि मानव जीवन को अर्थप…

Read more

सिनेमा पर एक अच्छी किताब :भारतीय सिनेमा का सफरनामा

पुस्तक चर्चा / अंतर्राष्ट्रीय फिल्मोत्सव गोवा  में सूचना और प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी द्वारा लोकार्पित, पुस्तक “भारतीय सिनेमा का सफरनामा”, चर्चे में है। सूचना और प्रसारण मंत्रालय के प्रकाशन प्रभाग द्वारा सद्य:  प्रकाशित  …

Read more

सोशल नेटवर्किंग पर सार्थक विमर्श

डॉ. सी. जय शंकर बाबु / इंटर्नेट के विकास के साथ ही सामाजिक संबंधों-संवादों के कई रूपों, कई सुविधाओं, व्यवस्थाओं और व्यवसायों के उभरने से दुनिया में रिश्तों के कई नए जाल फैल चुके    हैं ।  ऐसी एक नई व्यवस्था जिसमें नए संवादों की असीम संभावनाएँ उभरकर सामने आई हैं, उसे सोशल …

Read more

सीढ़ियां चढ़ता मीडिया

पुस्तक मीडिया और जन जीवन के व्यापक परिप्रेक्ष्य में ले जाने वाला

मीनाक्षी बोहरा / मीडिया पर लिखने का शुरुआती उत्साह और फैशन अब बीती बात है। अकादमिक हलकों में मीडिया अ…

Read more

नए ज़माने की पत्रकारिता

पुस्‍तक में पत्रकारिता के अलग अलग पहलुओं को उजागर करने वाले सभी सवालों के जबाव

इस किताब का मकसद पत्रकारों की नई पौध को वो सारी बातें बताना और पुराने लोगों को याद दिलाना, ज…

Read more

भारतीय मीडिया व साहित्य की सूचनाओं का भंडार है "पत्रकारिता कोश"

लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड में दर्ज है कोश का नाम

सूचना क्रांति के इस दौर में पत्रकारिता व साहित्य का दायरा काफी विस्तृत हो चुका है। हर दिन नए-नए समाचारपत्र व पत्रिकाओं का प्रकाशन प्रारंभ हो रहा है। चौबीसों घंटे पल-पल की खबरें देने के…

Read more

“न्यू मीडिया” पर केन्द्रित जन संचार विमर्श का द्वितीय अंक

इलाहाबाद। मीडिया पर राष्ट्रीय स्तर की शोध पत्रिका जनसंचार विमर्श का दूसरा अंक न्यू मीडिया पर केन्द्रित है। पत्रिका में देश के माने जाने मीडिया विशेषज्ञयों के अलावा देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों के प्रोफेसरों के अलावा कई पत्रकारिता विषय में शोधरत विद्यार्थियों के भी शोध पत्र प्रकाशित…

Read more

पत्रकारिता से मीडिया तक

वरिष्ठ पत्रकार मनोज कुमार की नई किताब

पुस्तक समीक्षा/अभिनव तैलंग/ वर्तमान में पत्रकारिता हाशिये पर है और मीडिया शब्द चलन में है। पत्रकारिता के गूढ़ अर्थ और मीडिया की व्यापकता को रेखांकित करत…

Read more

16 blog posts

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना