Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

सभी रेडियो सेवाओं को एफएम पर लाया जाएगा

मुंबई, 17 मार्च। केन्‍द्रीय सूचना और प्रसारण राज्‍य मंत्री कर्नल राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि एफ एम की स्‍पष्‍टता और लोकप्रियता को देखते हुए उनका मंत्रालय आगामी वर्षों में सभी रेडियो सेवाओं को एफएम पर लाने के लिए काम करेगा।

कर्नल राठौड़ ने आज सुबह मुम्‍बई दूरदर्शन केन्‍द्र परिसर में आकाशवाणी के एफएम ट्रांसमीटर का उद्घाटन करते हुए कहा कि एफएम ब्रॉडकास्‍ट बड़े आसानी से हाई डेफिनेशन में वो आ जाता है। इसलिए विविध भारती को हम एफएम में ब्रॉडकास्‍ट करेंगे। अभी तकरीबन 40 प्रतिशत भारत को कवर कर रहा है। अगले दो-ढाई सालों के अंतर्गत इसे 60 प्रतिशत तक ले जाएगे। एफएम गोल्‍ड मेट्रो स्‍टेशन के अंदर रेनबो है 23, 59 तक हम बढ़ाएगे।

इसके साथ ही आकाशवाणी की एक सर्वाधिक लोकप्रिय सेवा विविध भारती की मुम्‍बई सेवा एफएम चैनल 102 दशमलव आठ मेगाहर्ट्स पर शुरू हो गई।

कर्नल राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि रेडियो सुनने से टेलीविजन और सोशल मीडिया के समान व्‍यवधान नहीं पड़ता बल्कि इससे एकाग्रता बढ़ती है। उन्‍होंने कहा कि निकट भविष्‍य में आकाशवाणी में 250 और ट्रांसमीटर जोड़े जाएंगे।

इसके पूर्व केन्‍द्रीय सूचना प्रसारण राज्‍य मंत्री राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़ ने कल मुम्‍बई में हिन्‍दी फिल्‍म जगत की कई हस्तियों से मुलाक़ात की और उन्‍होंने आश्‍वस्‍त किया कि सेंसरशिप के मुद्दे को जल्‍दी ही सुलझा लिया जाएगा। भारतीय फिल्‍म और टेलीविजन निर्माता संघ के अध्‍यक्ष मुकेश भट्ट की अध्‍यक्षता में फिल्‍म निर्माताओंनिर्देशकों और अभिनेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने श्री राठौड़ से मुलाकात कर सेंसर बोर्ड के हाल के उन दिशानिर्देशों पर आपत्ति प्रकट की जिनमें उन शब्दों की सूची दी गई है जिनका इस्तेमाल नहीं किया जाना है। अभिनेता आमिर खान ने कहा कि वे श्री राठौड़ की प्रतिक्रिया से खुश हैं और उन्हें विश्वास है कि इस मुलाक़ात का सकारात्मक नतीजा निकलेगा।

 

जितने हमारे कर्न्‍सन्‍स थेखासतौर से सर्टिफिकेशन को लेकर और उन्‍होंने हमे एश्‍योर किया है कि वो सारी जो चीजे है उन पर ध्‍यान देंगे और उन पर सही जो कुछ उनको लगता है वो कदम उठाएंगे।

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना