Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

बिहार में निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता करना जरूरी : प्रेम कुमार

पारसनाथ तिवारी की श्रद्धांजलि सभा आयोजित

पटना/ राज्य के कृषि मंत्री डॉक्टर प्रेम कुमार ने कहा है कि बिहार में निष्पक्ष एवं निर्भीक पत्रकारिता करना समय की आवश्यकता है। पत्रकारों को जनता की समस्याओं को उठाना चाहिए। प्रेस लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है इसलिए इसकी स्वतंत्रता की रक्षा भी होनी चाहिए ।

मंत्री प्रेम कुमार ने यह बातें रविवार को बिहार श्रमजीवी पत्रकार यूनियन की ओर से मूर्धन्य पत्रकार और अमृत वर्षा के संपादक स्वर्गीय पारसनाथ तिवारी की श्रद्धांजलि सभा में कहीं। श्रद्धांजलि सभा में बड़ी संख्या में पत्रकार और छायाकार और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकार पहुंचे थे। मंत्री जी ने कहा कि स्वतंत्र पत्रकारिता की मशाल को जलाए रखना है उनके बताए रास्ते पर चलकर ही सुंदर बिहार का निर्माण किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि पारसनाथ जी के निधन से पत्रकारिता जगत को अपूरणीय क्षति पहुंची है।

मौके पर बिहार श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के महासचिव प्रेम कुमार ,विश्व संवाद केंद्र के संजीव कुमार ,कृष्णकांत ओझा, देवव्रत, राजकिशोर ,धर्मेंद्र,सिद्धार्थ, राकेश रंजन ,शशि उत्तम ,आकाश, उमेश कुमार ,राकेश कुमार , एस. एन. श्याम , विश्वपति, विद्यानन्द , क्रांति, अनिल, मुकेश, पत्रकार भाइयों ने अपने विचार प्रकट किए । स्वत्व पत्रिका के संपादक कृष्ण कांत ओझा ने स्वर्गीय तिवारी के उनके कार्यों का वर्णन किया । धन्यवाद ज्ञापन etv के संजय कुमार ने किया।

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना