Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

बीएचयू में राहुल एवं शिवपूजन सहाय की 125वीं जयंती मनेगी

नई दिल्ली/ तेरह पत्र पत्रिकाओं के प्रख्यात संपादक तथा हिंदी सेवी आचार्य शिवपूजन सहाय और आज़ादी की लड़ाई में चार बार जेल जानेवाले मशहूर लेखक महापण्डित राहुल सांकृत्यायन की 125 वीं जयंती के अवसर पर बनारस हिंदू विश्वविद्यालय 19 फरवरी से तीन दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित कर रहा है।

महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय वर्धा और उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित इस संगोष्ठी में देश भर से करीब 75 लेखक भाग ले रहे हैं। हिंदी साहित्य एवं भाषा के निर्माण में ऐतिहासिक भूमिका निभाने वाले इन दो महान विभूतियों के योगदान पर लेखकगण करीब दस सत्रों में नवजागरण के परिप्रेक्ष्य में विचार करेंगे। साथ ही संगोष्ठी में शिवपूजन सहाय के पुत्र डॉ मंगल मूर्ति ,गंगा प्रसाद विमल, उषाकिरण खान ,सूर्यबाला ,अच्युतानंद मिश्र ,अवधेश प्रधान ,डॉ ओमप्रकाश सिंह ,आशीष त्रिपाठी ,रामाज्ञा शशिधर ,कृपाशंकर चौबे जैसे लोगों के भाग लेने की संभावना है।

नौ अप्रैल 1893 को उत्तरप्रदेश के आज़मगढ़ जिले में जन्मे राहुल जी और नौ अगस्त 1893 को बिहार के बक्सर जिले में जन्मे शिवपूजन जी को लोकनायक जयप्रकाश नारायण के साथ मानद डी लिट् की उपाधि मिली थी । दोनों को भारत सरकार ने पद्मभूषण प्रदान किया था और उनकी जन्मशती पर एक डाक टिकट भी जारी किया था।

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना