Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

पत्रकार को जान से मारने की कोशिश

छपरा। वेब पोर्टल न्यूज़ फैक्ट डॉट इन के संपादक और डब्ल्यूजेएआई के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य संजय कुमार पांडेय को आज सुबह दबंग अतिक्रमणकारी द्वारा घर में घुस कर मारपीट कर जख्मी कर दिया गया और जान से मारने की कोशिश की गई, जख्मी पत्रकार ने पुलिस कप्तान को सूचना और थाने को लिखित शिकायत दी है।

पत्रकार द्वारा त्वरित एस पी को सूचित किया गया, एस पी ने त्वरित थाने को कार्रवाई का निर्देश दिया। पत्रकार का इलाज छपरा सदर अस्पताल में कराया गया। इस मामले में आरक्षी अधीक्षक सारण एवं खैरा थाना पुलिस त्वरित गति से कार्यवाई कर रहे है।

बाद में डब्ल्यूजेएआई के शिष्टमण्डल ने एसपी छपरा से मुलाकात की, एसपी ने थानाध्यक्ष को आरोपी दबंग की तुरत गिरफ्तारी का आदेश दिया है।

श्री पांडेय के अनुसार, सारण के खैरा थाने में विगत शनिवार को सीओ नगरा और थानाध्यक्ष द्वारा भूमि विवाद से संबंधित जनता दरबार लगाया गया जिसमें अन्य मामलों के साथ खैरा वार्ड नं 12 स्थित सरकारी जमीन में दबंग कन्हैया सिंह द्वारा अवैध निर्माण कराए जाने की शिकायत भी आई जिस पर सीओ नगरा मुन्ना कुमार द्वारा एक हफ्ते का समय शिकायतकर्त्ताओं और आरोपी को दिया गया। जिसकी खबर उसने प्रकाशित की, अन्य मीडिया में भी खबर प्रकाशित हुई। कल खैरा पुलिस ने उक्त निर्माण कार्य को रोक दिया लेकिन पुलिस के हटते ही कन्हैया सिंह पुन: निर्माण कार्य कराने लगे जिस पर पुलिस दुबारा जाकर निर्माण सामग्री जब्त कर लाई।

जिसके प्रतिशोध में कन्हैया सिंह ने सुबह 8. 30 बजे पीड़ित पत्रकार संजय कुमार पांडेय के घर में घुस कर भद्दी भद्दी गालियाँ देते हुए बुरी तरह मारपीट कर अधमरा कर दिया। पत्रकार को पेट, छाती, पीठ सहित गुप्तांग पर चोट किया गया और पटक कर छाती पर चढ़ गला दबाया गया। पत्रकार के रोने चिल्लाने का भी कोई असर नहीं पड़ा और गमला उठा कर जमीन पर पड़े पत्रकार के सिर पर मारा लेकिन पत्रकार ने बगल हो कर किसी तरह अपनी जान बचाई तब तक पत्रकार के भाई, सहयोगी और मुहल्ले वालों के हस्तक्षेप से इसकी जान बची।

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना