Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग में आधारभूत संरचानाओं विकसित होंगी: कुलपति

दोदिवसीय पिंक मीडिया वर्कशॉप का उद्घाटन

पटना/  पटना विश्वविद्यालय प्रशासन व्यवसायिक पाठ्यक्रमों के लिए सभी आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराएगा ताकि छात्र-छात्राओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के साथ-साथ व्यावहारिक प्रशिक्षण की सुविधा सुलभ हो सके। साथ ही पटना विश्वविद्यालय में प्लेसमेंट सेल भी गठित किया जायेगा, ताकि विद्यार्थियों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराये जा सकें और इसके लिए उनका मार्गदर्शन किया जा सके।। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो० (डॉ०) रास बिहारी प्रसाद सिंह ने विश्वविद्यालय के पत्रकारिता तथा जनसंचार स्नातकोत्तर विभाग और कम्यूनिटी राइट्स एण्ड डेवलेपमेंट फाउण्डेशन (सी.आर.डी.एफ) की ओर से मीडिया के विद्यार्थियों के लिए आयोजित दो-दिवसीय पिंक मीडिया वर्कशॉप के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कहा यह आश्वासन दिया।

इस मीडिया वर्कशॉप के आयोजन के लिए कुलपति ने सी.आर.डी.एफ के प्रयासों की सराहना की और कहा कि इस तरह का आयोजन विद्यार्थियों के लिए काफी लाभदायक है।

उद्घाटन सत्र को विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग के निदेशक डा. शरदेन्दु कुमार, वरिष्ठ पत्रकार निवेदिता झा, कमलेश, डा० लीना, डा० दिप्ती कुमारी और सी.आर.डी.एफ के सदस्य सचिव सैयद जावेद हसन ने भी संबोधित किया। निवेदिता झा ने आज के मीडिया की चर्चा करते हुए कहा कि महिला मुद्दों को लेकर यह निराश करता है.  

वही डा० दिप्ती कुमारी ने मीडिया की स्तर पर चिंता जताई. डॉ लीना ने आज भी मीडिया में महिलाओं की कम संख्या पर चिंता जताई.   

कार्यक्रम का संचालन पत्रकार इमरान सगीर ने किया जबकि सी.आर.डी.एफ के अध्यक्ष नवाज शरीफ ने धन्यवाद ज्ञापन किया। इस अवसर पर पत्रकारिता के छात्रों ने कुलपति को बेहतर आधारभूत संरचना उपलब्ध कराने के संबंध में एक स्मार-पत्र प्रस्तुत किया।

कार्यशाला के तकनीकी सत्र में पत्रकार साकिब जिया, चंदन कुमार झा, डॉ० लीना, सैयद जावेद हसन और इमरान सगीर ने विद्यार्थियों को लाईव रिपोर्टिंग, विज्ञापन, फोटोग्राफी और फीचर लेखन के माध्यम से बताया कि महिला मुद्दों के प्रति कैसे संवेदना बरती जाए। साथ ही तकनीकी और व्यावहारिक जानकारी भी दी। इस दो-दिवसीय कार्यशाला में पटना के विभिन्न विश्वविद्यलयों और महाविद्यालयों में अध्ययनरत मीडिया के 100 से अधिक छात्र-छात्राएँ भाग ले रहे हैं।

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना