Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

डा. माला घोष बनीं सिने सोसायटी की पहली महिला अध्यक्ष

पटना। सिने सोसायटी आंदोलन को आगे बढ़ाने के लिए प्रयासरत सिने सोसायटी, पटना अब 41 वर्ष का हो गया है। शुक्रवार को संपन्न 2016-17 के वार्षिक आमसभा में डा. माला घोष को सोसायटी का नया अध्यक्ष चुना गया, वे प्रो जय देव का स्थान लेंगी। करीब तीन दशक से सोसायटी की सक्रिय सदस्या रही डा. घोष सोसायटी की पहली महिला अध्यक्ष हैं। आमसभा में डा. एसके गांगुली तथा गौतम दासगुप्ता को उपाध्यक्ष, मो. चिरागुद्दीन अंसारी को सचिव, यूपी सिंह तथा प्रशांत रंजन को सह-सचिव और कल्याण बनर्जी को कोषाध्यक्ष के रुप में चयन किया गया। इसके अतिरिक्त छः सदस्यों वाली कार्यकारी समिति का भी चयन किया गया। निवर्तमान अध्यक्ष प्रो. जय देव अब सोसायटी के सलाहकार के तौर पर अपनी सेवाएं देंगे। उक्त जानकारी सोसायटी के सह-सचिव प्रशांत रंजन ने दी। वार्षिक आमसभा को संबोधित करते हुए निवर्तमान अध्यक्ष प्रो. जय देव ने कहा कि उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान सोसायटी का नाम आगे ले जाने का प्रयास किया। इस दौरान उन्हें कई खट्टे-मिठ्ठे अनुभव हुए। भविष्य में भी सोसायटी को अपनी सेवाएं देते रहेंगे।

आमसभा के दौरान सिने सोसायटी के पूर्व अध्यक्ष आरएन दास ने कहा कि प्रो. देव के तीन साल के अध्यक्षीय कार्यकाल के दौरान न सिर्फ फिल्मों का प्रदर्शन हुआ बल्कि फिल्म प्रोस्टर प्रदर्षनी, फिल्म एप्रिसिएषन कार्यशाला जैसे कार्यक्रम भी हुए। बिहार सरकार द्वारा इस साल फरवरी माह में आयोजित पटना फिल्म फेस्टिवल में सिने सोसायटी ऑफिषियल पार्टनर था। फेस्टिवल के अंतिम दिन सिने प्रेमियों के लिए आोजित फिल्म एप्रिसिएषन कार्यशाला का संचालन प्रो. देव ने किया था। इसके अतिरिक्त किलकारी बिहार बाल भवन एवं कालीदास रंगालय में भी उन्होंने ऐसे कई कार्यषालाओं का संचालन किया, जिससे सैंकड़ों फिल्म प्रेमी लाभांवित हुए। उन्होंने कहा कि सिने सोसायटी पटना देश की एकमात्र सिने सोसायटी है जो अनवरत मासिक सिने बुलेटिन का प्रकाशन करती है।   

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना