Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

डब्ल्यूजेएआई ने की पत्रकार पुत्र हत्याकांड की कड़ी निन्दा

पटना/ वेब जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ इंडिया की यूपी और पटना इकाई ने नालंदा के पत्रकार पुत्र की हत्याकांड की कड़ी निन्दा की है। संगठन की इकाईयों द्वारा शोकसभा आयोजित कर मृत आत्मा को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए पीड़ित परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की गई।

संगठन की यूपी इकाई द्वारा लखनऊ में शोक सभा का आयोजन हुआ । इसमें समाजसेवी धनीराम रस्तोगी, आशीष शर्मा ऋषि, अभिषेक मिश्रा, दीप प्रकाश वर्मा, सिराज फहीम, अंचल कपूर, रमन श्रीवास्तव, अनूप सिंह, विपिन अवस्थी मौजूद रहे।

आशीष शर्मा ऋषि ने इस दौरान कहा कि वरिष्ठ पत्रकार और मृतक के पिता आशुतोष जी को किसी भी तरह की कोई आवश्यकता होती है तो हम उनके साथ हमेशा खड़े हैं। उन्हें अकेला महसूस नहीं होने देंगे।

इस प्रस्ताव का सभी ने स्वागत किया।

तो वहीं पटना इकाई द्वरा नालंदा जिले के वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष कुमार आर्य के पुत्र चुन्नू की नृशंस हत्या के आलोक में डाकबंगला चौराहा स्थित पारिजात कॉम्प्लेक्स (डबल्यूजेएआई मुख्य कार्यालय ) मे एक शोक सभा का आयोजन डबल्यूजेएआई के राष्ट्रीय संयुक्त सचिव मधुप मणि पिक्कू की अध्यक्षता मे किया गया | जिसमे दो मिनट का मौन रखते हुए मृत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की गयी और एक शोक प्रस्ताव पारित कर इस घटना की तीव्र निंदा की गयी |

इस मौके पर पटना जिला इकाई के अध्यक्ष  बाल कृष्ण ने कहा कि बिहार मे आए दिन कहीं न कही पत्रकार या फिर उनके परिवारजनो के साथ आपराधिक घटनायें घटित हो रही है जिसे पुलिस के वरीय पदाधिकारीयों को चुनौती के रूप मे लेते हुए उसपर काबू करने की आवश्यकता है. ताकि लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ निर्भीक होकर अपना दायित्व निभा सकें |

इस शोक सभा के माध्यम से संगठन ने प्रस्ताव पारित किया कि सभी पत्रकार पीड़ित परिवार के साथ भावनात्मक रूप से जुड़े है और दुख की इस घड़ी मे हम हमेशा उनके साथ खड़े रहेगे | हम सरकार और पुलिस प्रशासन से इस पूरी घटना का त्वरित और न्यायिक जांच के करवाने के भी पक्षधर है |

 इस शोक सभा में डबल्यूजेएआई की पटना इकाई के उपाध्यक्ष पारसनाथ, सचिव अक्षय आनंद , रौशन कुमार सहित कई अन्य वरिष्ठ पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया ।

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना