Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

जनसम्पर्क विभाग की जिम्मेदारियाँ सभी विभागों से ज्यादा- वृशिण पटेल

पटना। सूचना जनसम्पर्क विभाग आकार में भले छोटा है मगर हमारी जिम्मेदारियाँ सभी विभागों से ज्यादा हैं; क्योंकि हम सभी विभागों के कार्य कलापों की खबर रखते हैं और उससे आमजन को अवगत कराते हैं। हमारे द्वारा ज्यादा से ज्यादा प्रचार-प्रसार किए जाने से अन्य विभागों की योजनाओं की कामयाबी बढ़ती है अतः हमें अपनी जिम्मेदारियों को बखूबी समझना चाहिए और सरकार के कामकाज को बेहतर ढंग से सुदूर देहातों में पहुँचाना चाहिए। सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग की कल राज्यस्तरीय बैठक के दौरान सूचना मंत्री  वृशिण पटेल ने जनसम्पर्क अघिकारियों को संबोधित करते हुए उपर्युक्त बातें कहीं।

श्री पटेल ने विभाग की कामयाबियों-उपलब्धियों को बढ़ाने की बात करते हुए आधारभूत संरचना के विकास तथा समस्याओं के समाधान हेतु सचिव को निदेशित किया। श्री पटेल ने विभागीय मासिक पत्रिका के उठाव तथा फूलप्रूफ अरेंजमेंट किए जाने की बात कही। उन्होंने अपने संबोधन के अंत में कहा कि हमारी मूल भावना है कि सरकार के काम-काज तथा इसकी योजनाओं से गाँव-देहात के लोग अवगत हों और तदनुसार लाभ उठाएँ।

इस मौके पर सूचना सचिव श्री प्रत्यय अमृत ने विभाग के प्रत्येक क्रियाकलाप की गहन समीक्षा की और अपेक्षित निदेश भी दिए। विभागीय पत्रिका के प्रकाशन से लेकर उठाव-वितरण तक तथा प्रकाश्य सामग्री के भी सन्दर्भ में अपने दूरंगामी दृष्टिकोण के अनुरूप उन्होंने निदेशक को निदेशित किया ताकि विभागीय पत्रिका हेतु आम जन की रूचि बढ़े। श्री अमृत ने विभाग द्वारा जारी की जा रही नवीनतम ‘बिहार राज्य पत्रकार बीमा योजना, 2014’ के सन्दर्भ में फील्ड के फीड बैक तथा सजेशंस को सुना तथा तदनुसार इसके प्रपत्र के सरलीकरण के प्रसंग में अवगत कराया।

बैठक के दौरान निदेशक  विपिन कुमार सिंह ने विभागीय कार्यों की रूटीन समीक्षा कर अपेक्षित मार्गनिर्देश भी सभी अधिकारियों को दिए।

 

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना