Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

चंपारण सत्याग्रह के शताब्दी वर्ष पर 8-9 को अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार

पत्रकारों के इस आयोजन में देश -विदेश के पत्रकारों का होगा जुटान 

मोतिहारी / पूर्वी चंपारण के मोतिहारी में चंपारण सत्याग्रह के शताब्दी वर्ष पर 8 व 9 जुलाई को चंपारण प्रेस क्लब द्वारा आयोजित अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार की सफलता को लेकर एक बैठक का आयोजन गांधी संग्रहालय में हुआ, जिसमें कार्यक्रम के आयोजन के संबंध में चर्चा की गई।आयोजन में शामिल होने वाले दिग्गज पत्रकार विश्व शांति व महात्मा गांधी विषय पर अपने विचार रखेंगे। आयोजन समिति के अध्यक्ष चंद्रभूषण पांडेय ने बताया कि इस आयोजन में देश-विदेश के पत्रकारों को आमंत्रित किया गया है। जिसमें से काफी सारे लोगों ने सहमति जता दी  है। इस आयोजन में कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक के पत्रकार शामिल हो रहे है। साथ मे श्री लंका,मलेशिया,नेपाल और भूटान के साथियों ने भी इस कार्यक्रम में शामिल होने की सहमति जताई है।

इस आयोजन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, राज्यपाल रामनाथ कोविंद, विधानसभा अध्यक्ष विजय चौधरी, केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह एवम् सूचना व प्रसारण राज्य मंत्री ने भी अपनी सहमति दे दी है।

पत्रकारों में ओंकारेश्वर पांडेय एडिटर ANI, संतोष भारतीय संपादक चौथी दुनिया, शशि शेखर प्रधान संपादक हिंदुस्तान, संजय गुप्ता प्रधान संपादक दैनिक जागरण,  वरीष्ठ पत्रकार आनंद वर्धन आदि लोगो ने अपनी सहमति दी है।

बैठक के दौरान सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि सेमिनार के दौरान  चंपारण के पत्रकार पीर मोहम्मद सम्मान 5 लोगों को दिया जाएगा। इस सम्मान के लिए वैसे लोगों का चयन किया जाएगा। जिन्होंने चंपारण में गांधी व उनकी विरासत को सजाने संवारने का काम किया हो।

बैठक के दौरान आने वाले मेहमान को चंपारण दर्शन कराने का भी निर्णय लिया गया। आयोजन समिति के महासचिव ज्ञानेश्वर गौतम व संयोजक राकेश कुमार ने कहा कि इस आयोजन में चंपारण के हर पत्रकार को जिम्मेदारी दी जाएगी ताकि आयोजन ऐतिहासिक हो सके।

मौके पर हिदुस्तान के व्यूरो चीफ सतीश मिश्रा, राजेश नारायण सिन्हा,  सागर सूरज, सुदिष्ट नारायण ठाकुर,आलोक कुमार, संजय कुमार सिंह, ओजैर अंजूम, सत्येंद्र झा, राजेंद्र प्रसाद, कैलाश गुप्ता, गौरव दूबे, पंकज कुमार आदि मौजूद थे।

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना