Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

अमरपुर प्रेस क्लब के संवाद कक्ष का उद्घाटन

प्रेस क्लब की 21वीं वर्षगांठ पर भव्य कार्यक्रम का हुआ आयोजन

अमरपुर  (बिहार)/  अमरपुर प्रेस क्लब की 21वीं वर्षगांठ के अवसर पर संवाद कक्ष का उद्घाटन हुआ. संवाद कक्ष का उद्घाटन केन्द्रीय विकास मानव संसाधन राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा द्वारा किया गया. इस कार्यक्रम में सांसद रामकुमार शर्मा, पूर्व सांसद पुतुल कुमारी, पूर्व सांसद भूदेव चौधरी, तिलकामांझी विश्वविद्यालय भागलपुर के कुलपति आचार्य नलिनीकांत झा एवं पूर्व विधायक पप्पू यादव सहित कई अतिथिगण शामिल हुए. केन्द्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने संवाद कक्ष के उद्घाटन पर ख़ुशी जतायी. उन्होंने कहा कि पत्रकार राष्ट्र का चौथा स्तम्भ है, जो बखूबी अपना धर्म निभा रही है.

अमरपुर प्रेस क्लब की 21वीं वर्षगांठ पर भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया. अमरपुर प्रेस क्लब को दिग्विजय सिंह के कारण पहचान मिली जिस कारण आज प्रेस क्लब अमरपुर 21वीं वर्षगांठ मना रहा है. 21वीं वर्षगांठ के मौके पर शिक्षा, व्यवसाय, प्रद्योगिकी और पत्रकारिता के क्षेत्र के जाने माने दिग्गजों को सम्मानित भी किया गया. साथ ही अमरपुर की गौरवमायी गाथा पर अमरांचल स्मारिका का भी विमोचन किया गया.

सम्मानित अतिथियों में देश प्रदेश मीडिया के संपादक व् इंडिया वॉच बिहार और झारखण्ड के ब्यूरो चीफ आनंद कौशल, एकता शक्ति फाउंडेशन के उपाध्यक्ष रजनीकांत पाठक, अचीवर्स पॉइंट के निदेशक जी डी ज्ञानी,  सफल बिजनसमैन श्री बिभास, नन्हें रिपोर्टर के संपादक अनिल पांडे और व्यापार जगत से संजीत कुमार सिंह शामिल थे. सम्मान समारोह का कार्यक्रम दीप प्रज्वलित कर किया गया. आयोजन समिति के अध्यक्ष शैलेंद्र झा ने कहा कि अमरपुर प्रेस क्लब के सदस्यों की मेहनत रंग लाई और आज प्रेस सवांद कक्ष का उद्घाटन हुआ. वहीं समिति संयोजक संजय सिंह और महासचिव पंडित नंद कुमार निर्मल ने कहा कि संवाद कक्ष के कारण अब बांका के पत्रकारों को एक सम्मान मिला है, साथ ही उन्होंने आये हुए सभी सम्मानित अतिथियों का धन्यवाद किया. कार्यक्रम के मौके पर सभी पत्रकारों ने अपने अपने विचार रखे और अमरांचल की व्याख्या की.

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना