Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

हांफती जिंदगी और त्योहार...!!

बदलते जमाने में मीडिया भी ऐसा माहौल तैयार करने में लगा है कि देखो, दुनिया कैसे त्योहार की खुशियों में डूब - उतरा रही है

तारकेश कुमार ओझा/ काल व परिस्थिति के लिहाज से एक ही अवसर किस तरह विपरीत रुप धारण कर सकता है, इसका जीवंत उदाहरण हमारे तीज - त्योहार हैं। बचपन में त्योहारी आवश्यकताओं की न्यूनतम उपलब्धता सुनिश्चित न होते हुए भी दुर्गापूजा व दीपावली जैसे बड़े त्योहारों की पद्चाप हमारे अंदर अपूर्व हर्ष व उत्साह भर देती थी। पूजा के आयोजन के लिए होने वाली बैठकों के साथ पंडाल तैयार करने की प्रारंभिक तैयारियों को देख हम बल्लियों उछलने लगते थे। दुर्गा पूजा के चार दिन हम पर त्योहार की असाधारण खुमारी छाई रहती थी। विजयादशमी के दिन एक साल के इंतजार की विडंबना से हम उदासी में डूब जाते थे। लेकिन मन में एक उम्मीद रहती थी कि चलो दुर्गापूजा बीत गया, लेकिन अब दीपावली  के चलते फिर वैसा ही उत्साहवर्द्धक माहौल बनेगा। बेशक असमानता की विडंबना तब भी थी, लेकिन शायद तब त्योहारों पर बाजार इस कदर हावी नहीं हो पाया था।

बड़े होने पर जरूरी खर्च की जद्दोजहद के चलते त्योहार की परंपरा का निर्वाह मजबूरी सी लगनी लगी। क्योंकि बुनियादी आवश्यकताओं की पूर्ति के बाद त्योहार के अतिरिक्त खर्च के लिए पाई - पाई जुटाना एक मुश्किल व दुरुह कार्य साबित होता है। अक्सर तमाम प्रयासों के बावजूद इतनी राशि का जुगाड़ नहीं हो पाता कि खुद नहीं तो कम से कम परिवार के सदस्यों को त्याहोर के दौरान अवसाद की त्रासदी से बचा सकें। इसी के साथ बड़े त्योहारों के दौरान असमर्थ, असहाय व वंचित लोगों खास कर बच्चों की बेबसी इस मौके पर मन में असह्य टीस व बेचैनी पैदा करने लगी। इसकी बड़ी वजह शायद दिनोंदिन त्योहार पर बाजार का हावी होते जाना है। ऐसे मौकों पर बाजार की ओर से  ऐसा परिदृश्य रचने की कोशिश होती है कि मानो पूरा देश त्योहार की खुशियों से झूम रहा है। लेकिन क्या  सचमुच ऐसा है। सच्चाई यह है कि  बमुश्किल 25 प्रतिशत आाबादी ही बड़े त्योहारों का खर्च वहन कर पाने की स्थिति में है। खास तौर से सरकारी कर्मचारियों का वह वर्ग जो इस अवसर पर बोनस व एरियर समेत तमाम मद की मोटी राशि के साथ लंबी छुट्टियों की सौगात से भी लैश रहता है। इनके लिए त्योहार एक अवसर है  जिसका भरपूर भोग कराने के लिए बाजार तैयार खड़ा है। भ्रमण , सैर - सपाटा व मनोरंजन समेत तमाम विकल्प इस वर्ग के सामने उपलब्ध है। लेकिन शेष आबादी के लिए त्योहार तनाव व असवाद का कारण बनते जा रहे हैं। क्योंकि न्यूनतम आवश्यकताओं के लिए हांफती जिंदगियों के पास  त्योहार का अतिरिक्त खर्च जुटाने का सहज साधन नहीं है। बड़े त्योहारों के दौरान बड़ी संख्या में होने वाली आत्महत्या की घटनाएं भी शायद इसी वजह से होती हैं। बेशक ऐसे मौकों पर सामाजिक संस्थाओं की ओर से गरीबों के बीच वस्त्र वितरण आदि कार्य़क्रम भी आयोजित किए जाते हैं, लेकिन जो सार्वजनिक मंचों से ऐसे दान लेने का साहस नहीं जुटा सके, उनका क्या?

इस एकपक्षीय परिवर्तन का असर समाज के हर वर्ग के साथ मीडिया में भी दिखाई देता है। ज्यादा नहीं दो दशक पहले तक ऐसे मौकों पर मीडिया का पूरा फोकस समाज के उस वंचित तबके की ओर रहता था , जिसके लिए त्योहार मनाना आसान नहीं। जो चाह कर भी इस खुशी में शामिल नहीं हो पाता। लेकिन बदलते जमाने में मीडिया भी ऐसा माहौल तैयार करने में लगा है कि देखो , दुनिया कैसे त्योहार की खुशियों में डूब - उतरा रही है। बात 

दुर्गापूजा की हो या दीपावली की रंग - बिरंगे कपड़ों से सजे लोग बाजारों में खरीदारी करते दिखाए जाते हैं। कहीं गहने खरीदे जा रहे हैं तो कहीं ऐशो - आराम का कोई दूसरा साधन।विशेष अवसर पर विशेष खरीदारी के लिए विशेष छूट के वृहत विवरण से बाजार अटा - पटा नजर आता है। हर तरफ अभूतपूर्व उत्साह - उमंग  का परिदृश्य रचा जाता है। लेकिन क्या सचमुच ऐसा है...। समाज के कितने फीसद लोग त्योहारों पर ऐसा कर पाते हैं। त्योहारों की खुशियों से वंचित तबके की अब कोई चर्चा न होना किसी वि़डंबना से कम नहीं। 


​लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं और पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में रहते हैं। 

तारकेश कुमार ओझा, भगवानपुर, जनता विद्यालय के पास वार्ड नंबरः09 (नया) खड़गपुर ( प शिचम बंगाल) पिन ः721301 जिला प शिचम मेदिनीपुर संपर्कः 09434453934 

 

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना