Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

अजंता लोहित स्मृति दिवस पर विचार गोष्ठी और कविता पाठ

बदलाव के लिए वैचारिक प्रतिबद्धता जरूरी है
लखनऊ । आज का दौर कारपोरटीकरण का दौर है। देश की नीतियां कारपोरेट पूंजी के हितों के लिए बनाई जा रही हैं। मीडिया भी इसके पक्ष में लोगों को तैयार कर रहा है। लेकिन इसका दूसरा पक्ष है कि इन नीतियों की वजह से जनता में तबाही आई है। उसका असंतोष लगातार बढ़ रहा है। वह बदलाव चाहती है। अपनी इस भावना को वह लगातार अभिव्यक्त किया है।

यह विचार प्रगतिशील महिला एसोसिएशन ;एपवाद्ध की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ताहिरा हसन ने दो फरवरी 2014 को लेनिन पुस्तक केन्द्र, लालकुंआ में अजन्ता लोहित स्मृति दिवस पर आयोजित विचार गोष्ठी में व्यकत किये। कार्यक्रम का आयोजन जन संस्कृति मंच और एपवा ने संयुक्त रूप से किया था। कार्यक्रम की अध्यक्षत जाने माने कवि व लेखक भगवान स्वरूप कटियार ने की। अपने अध्यक्षीय संबोधन में कहा कि "आप" का उदय जनता के अन्दर जो बदलाव की भावना है उसी की उपज है। जनता विकल्प चाहती है। लेकिन ‘आप’ की वैचारिक स्थिति साफ नहीं है। एक तरफ कुमार विश्वास जैसे अपने को ब्राहम्ण बताने वाले तथा ‘खाप’ का समर्थन करने वाले दक्षिणपंथी विचार के लोग हैं, तो दूसरी तरफ प्रशांत भूषण जैसे लोग हैं। यह ऐसा दौर है जब बदलाव की इस भावना का नेतृत्व करने के लिए वैचारिक प्रतिबद्धता जरूरी है।

अपने संयोजकीय वक्तव्य में जसम के संयोजक व कवि कौशल किशोर ने अजन्ता लोहित को याद करते हुए कहा कि वे वामपंथी महिला नेता के साथ वे जन संस्कृतिकर्मी भी थीं। उन्होंने न सिर्फ इस व्यवस्था के विरुद्ध संघर्ष किया बल्कि कैंसर जैसी बीमारी से भी लगातार संघर्ष किया। कई बार उसे पछाड़ा भी। बदलाव के प्रति यह उनकी प्रतिबद्धता थी कि जब भी वे जरा स्वस्थ होती वह जनता के बीच होतीं। अपनी अस्वस्थता के बीच भी वे कई बार जेल गईं। यह दौर ऐसा है जब काॅरपोरेट जब कुछ हड़प लेना चाहता है। वह मध्यवर्ग को अपनी फौज बनाकर खड़ा कर रहा है। बौद्धिक उत्पादन को वह अपने अनुकूल ढ़ाल रहा है। इसी का नतीजा है कि आज साहित्य व कला के नाम पर उत्सव व कार्निवाल हो रहे हैं। इसके द्वारा कोशिश है कि बाजार के अनुकूल साहित्य को ढ़ाला जाय, उसकी प्रतिरोध की धार को कमजोर किया जाय।

विचार गोष्ठी को भाकपा माले के राज्य सचिव कामरेड रमेश सिंह सेंगर औश्र वकर्स कौंसिल के रामकृष्ण ने भी संबोधित किया।

कविता पाठ

‘डरी हुई हैं हमारी अतृप्त प्रेम भावनाएं’

जसम की ओर से आयोजित कविता पाठ में जहां समाज की विसंगतियों को उजागर किया गया, वहीं ऐसी कविताएं प्रस्तुत की गई जो प्रतिरोध और परिवर्तन की भावनाओं व विविध रंगों सं पूर्ण थी। भगवान स्वरूप कटियार ने ‘नीरो की बंशी’ और ‘खौफ के साये में प्रेम’ कविताएं सुनाईं। कैसे प्रेम करना भी जुर्म हो गया। वे अपनी कविता  में कहते हैं ‘हमारे मूक प्रेम का साक्षी है/यह नीम का पेड़......खौफ से थर्राये हैं/ हमारे भूमिगत शब्द/और डरी हुई है/हमारी अतृप्त प्रेम भावनाएं’।

विमला किशोर ने ‘रुकली’ और ‘यही सपना अपना है’ कविताओं का पाठ किया। इन कविताओं के द्वारा जहां स्त्रियों पर हो रहे जुल्म का बयान है, वहीं संघर्ष का संकल्प है। वे कहती हैं ‘जल रहा है देश/माताएं बेबस/औरतें इज्जत बचाने को कहां जाएं/बच्चे निरीह सा देख रहे हैं/सारा माहौल कफ्र्यू सा/ मानो एक आग सी लगी है’। लेकिन कविताओं में इन क्रूर स्थितियों को बदलने की चाहत भी है। अपनी कविता ‘रुकली’ मे बलात्कार व जुल्म की सताई रुकली का संघर्ष भाव यूं व्यक्त होता है: ‘रुकली लड़ेगी.... जरूर लड़ेगी/उनके लिए जिनकी दांव पर लगी हैं जिन्दगियां/उनके वजूद के लिए/जो अजन्में हैं अभी’।

कवि गोष्ठी में कौशल किशोर ने अपनी कविता ‘वह औरत नहीं महानद थी’ और ‘जनता करे, तो क्या करे’ सुनाई। अपनी कविता के द्वारा एक औरत की संघर्ष गाथा को उनहोंने व्यकत किया, वहीं अमरिकी साम्राजयवाद के वर्चस्व के समक्ष सरकार के समर्पण को कविता का विषय बनाया। अपनी कविता में वे कहते हैं ‘अपने पर बड़ा गुमान/कि वह जो करता है/ लोकतंत्र के लिए करता है/कटोरा बांटता है/भिखारी को जैसे रोटी के टुकड़े/वैसे ही वह फेंकता है/कटोरे में लोकतंत्र’। इस मौके पर वरिष्ठ कवयित्री शोभासिंह ने अपनी कविता ‘अर्धविधवा’ का पाठ किया। यह कविता कश्मीर के सच को बड़े ही मर्मस्पर्शी तरीके से अभिव्यक्त करती है। बी एन गौड़, उमेश चन्द्र नागवंशी, कल्पना पांडेय दीपा, उर्दू के शायर तश्ना आलमी, आदियोग, नीरद जनमित्र आदि ने भी अपनी कविताएं सुनाईं।

कौशल किशोर
संयोजक जन संस्कृति मंच, लखनऊ
मो - 9807519227

 

vtark yksfgr Le`fr fnol ij fopkj xks’Bh vkSj dfork ikB

cnyko ds fy, oSpkfjd izfrc)rk t:jh gS

y[kuÅ] 2 QjojhA vkt dk nkSj dkWjiksjVhdj.k dk nkSj gSA ns”k dh uhfr;ka dkWjiksjsV iwath ds fgrksa ds fy, cukbZ tk jgh gSaA ehfM;k Hkh blds i{k esa yksxksa dks rS;kj dj jgk gSA ysfdu bldk nwljk i{k gS fd bu uhfr;ksa dh otg ls turk esa rckgh vkbZ gSA mldk vlarks’k yxkrkj c<+ jgk gSA og cnyko pkgrh gSA viuh bl Hkkouk dks og yxkrkj vfHkO;Dr fd;k gSA

;g fopkj izxfr”khy efgyk ,lksfl,”ku (,iok) dh jk’Vªh; mik/;{k rkfgjk glu us vkt ysfuu iqLrd dsUnz] ykydqavk esa vtUrk yksfgr Le`fr fnol ij vk;ksftr fopkj xks’Bh esa O;dr fd;sA dk;Zdze dk vk;kstu tu laLd`fr eap vkSj ,iok us la;qDr :Ik ls fd;k FkkA dk;Zdze dh v/;{kr tkus ekus dfo o ys[kd Hkxoku Lo:Ik dfV;kj us dhA vius v/;{kh; lacks/ku esa dgk fd avki* dk mn; turk ds vUnj tks cnyko dh Hkkouk gS mlh dh mit gSA turk fodYi pkgrh gSA ysfdu ^vki* dh oSpkfjd fLFkfr lkQ ugha gSA ,d rjQ dqekj fo”okl tSls vius dks czkgE.k crkus okys rFkk ^[kki* dk leFkZu djus okys nf{k.kiaFkh fopkj ds yksx gSa] rks nwljh rjQ iz”kkar Hkw’k.k tSls yksx gSaA ;g ,slk nkSj gS tc cnyko dh bl Hkkouk dk usr`Ro djus ds fy, oSpkfjd izfrc)rk t:jh gSA

vius la;kstdh; oDrO; esa tle ds la;kstd o dfo dkS”ky fd”kksj us vtUrk yksfgr dks ;kn djrs gq, dgk fd os okeiaFkh efgyk usrk ds lkFk os tu laLd`frdehZ Hkh FkhaA mUgksaus u flQZ bl O;oLFkk ds fo#) la?k’kZ fd;k cfYd dSalj tSlh chekjh ls Hkh yxkrkj la?k’kZ fd;kA dbZ ckj mls iNkM+k HkhA cnyko ds izfr ;g mudh izfrc)rk Fkh fd tc Hkh os tjk LoLFk gksrh og turk ds chp gksrhaA viuh vLoLFkrk ds chp Hkh os dbZ ckj tsy xbZaA ;g nkSj ,slk gS tc dkWjiksjsV tc dqN gM+Ik ysuk pkgrk gSA og e/;oxZ dks viuh QkSt cukdj [kM+k dj jgk gSA ckSf)d mRiknu dks og vius vuqdwy <+ky jgk gSA blh dk urhtk gS fd vkt lkfgR; o dyk ds uke ij mRlo o dkfuZoky gks jgs gSaA blds }kjk dksf”k”k gS fd cktkj ds vuqdwy lkfgR; dks <+kyk tk;] mldh izfrjks/k dh /kkj dks detksj fd;k tk;A

fopkj xks’Bh dks Hkkdik ekys ds jkT; lfpo dkejsM jes”k flag lsaxj vkSJ odlZ dkSafly ds jked`’.k us Hkh lacksf/kr fd;kA

 

dfork ikB

^Mjh gqbZ gSa gekjh vr`Ir izse Hkkouk,a*

tle dh vksj ls vk;ksftr dfork ikB esa tgka lekt dh folaxfr;ksa dks mtkxj fd;k x;k] ogha ,slh dfork,a izLrqr dh xbZ tks izfrjks/k vkSj ifjorZu dh Hkkoukvksa o fofo/k jaxksa la iw.kZ FkhA Hkxoku Lo:Ik dfV;kj us ^uhjks dh ca”kh* vkSj ^[kkSQ ds lk;s esa izse* dfork,a lqukbZaA dSls izse djuk Hkh tqeZ gks x;kA os viuh dfork  esa dgrs gSa ^gekjs ewd izse dk lk{kh gS@;g uhe dk isM+------[kkSQ ls FkjkZ;s gSa@ gekjs Hkwfexr “kCn@vkSj Mjh gqbZ gS@gekjh vr`Ir izse Hkkouk,a*A

foeyk fd”kksj us ^#dyh* vkSj ^;gh liuk viuk gS* dforkvksa dk ikB fd;kA bu dforkvksa ds }kjk tgka fL=;ksa ij gks jgs tqYe dk c;ku gS] ogha la?k’kZ dk ladYi gSA os dgrh gSa ^ty jgk gS ns”k@ekrk,a cscl@vkSjrsa bTtr cpkus dks dgka tk,a@cPps fujhg lk ns[k jgs gSa@lkjk ekgkSy d¶;wZ lk@ ekuks ,d vkx lh yxh gS*A ysfdu dforkvksa esa bu dzwj fLFkfr;ksa dks cnyus dh pkgr Hkh gSA viuh dfork ^#dyh* es cykRdkj o tqYe dh lrkbZ #dyh dk la?k’kZ Hkko ;wa O;Dr gksrk gS % ^#dyh yM+sxh---- t:j yM+sxh@muds fy, ftudh nkao ij yxh gSa ftUnfx;ka@muds otwn ds fy,@tks vtUesa gSa vHkh*A

dfo xks’Bh esa dkS”ky fd”kksj us viuh dfork ^og vkSjr ugha egkun Fkh* vkSj ^turk djs] rks D;k djs* lqukbZA viuh dfork ds }kjk ,d vkSjr dh la?k’kZ xkFkk dks mugksaus O;dr fd;k] ogha vefjdh lkezkt;okn ds opZLo ds le{k ljdkj ds leiZ.k dks dfork dk fo’k; cuk;kA viuh dfork esa os dgrs gSa ^vius ij cM+k xqeku@fd og tks djrk gS@ yksdra= ds fy, djrk gS@dVksjk ckaVrk gS@fHk[kkjh dks tSls jksVh ds VqdM+s@oSls gh og Qsadrk gS@dVksjs esa yksdra=*A bl ekSds ij ofj’B dof;=h “kksHkkflag us viuh dfork ^v/kZfo/kok* dk ikB fd;kA ;g dfork d”ehj ds lp dks cM+s gh eeZLi”khZ rjhds ls vfHkO;Dr djrh gSA ch ,u xkSM+] mes”k pUnz ukxoa”kh] dYiuk ikaMs; nhik] mnwZ ds “kk;j r”uk vkyeh] vkfn;ksx] uhjn tufe= vkfn us Hkh viuh dfork,a lqukbZaA

dkS”ky fd”kksj

                        la;kstd tu laLd`fr eap] y[kuÅ

eks & 9807519227

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;f5d815536b63996797d6b8e383b02fd9aa6e4c70175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;1549d7fbbceaf71116c7510fe348f01b25b8e746175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना