Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

Blog posts September 2017

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के मीडिया ईकाइयों ने मनाया हिंदी पखवाड़ा समापन समारोह

पटना/ सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के विभिन्न मीडिया ईकाइयों द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित हिन्दी पखवाड़ा के समापन समारोह का आयोजन आज दिनांक 14 सिंतंबर, 2017 को पत्र सूचना कार्यालय, पटना  में किया गया। इस अवसर पर मंत्रालय के पटना स्थित मीडिया ईकाइयों, पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी), क…

Read more

हिंदी के श्राद्ध पर्व पर हिंदी पत्रकारिता का पिंडदान

राम प्रकाश वरमा/ हिन्दी और हिन्दी पत्रकारिता के कर्मकांडी श्राद्धपर्व के माहौल में हिन्दी बोलने पर जुर्माने की सजा! हिन्दी का पिण्डदान करने सरकारी अय्याशों के साथ ‘कामसू़त्र’ की नई विधा तलाशने का सपना संजोए हिंदी पुत्रों के विदेश जाने का शुल्क बस पांच हजार! देश में रोमन लिप…

Read more

टीआरपी पत्रकारिता वाला साहस !

साकिब ज़िया / पटना। राम-रहीम पर लगे आरोप डेढ़ दशक पुराने हैं, लेकिन मीडिया तब जागा, जब दो बहादुर बेटियों और एक जांबाज़ पत्रकार ने जान की बाज़ी लगाकर न्याय की लड़ाई जीत ली। राम रहीम के ‘कुकर्मों का खुलासा’ कर रहा मीडिया अब तक क्यों उनकी गोद में बैठा था ? क्यों मीडिया की …

Read more

बीवाईएन का यूट्यूब चैनल भी शीघ्र शुरू होगा

“सोशल मीडिया का बढ़ता दायरा और संभावनाओं के आयाम” पर बीवाईएन ने आयोजित की संगोष्‍ठी,  ’वीरेंद्र यादव न्‍यूज’ के सोशल मीडिया विशेषांक का …

Read more

यह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की हत्या है

गौरी लंकेश की हत्या और पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर स्वाम की बैठक

पटना। साउथ एशियन वीमेन इन मीडिया (स्वाम) पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या को भारतीय संविधान के अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता …

Read more

पत्रकारों की सुरक्षा के लिए बने विशेष कानून

जनजागरण मीडिया मंच ने विशेष कानून बनाये जाने की मांग की  

लखनऊ/ प्रदेश के विभिन्न जिलों में आये दिनों पत्रकारों पर हो रहे जानलेवा हमले एवं हत्या के विरोध के साथ साथ देश में पत्रकारों की सुरक्षा को ल…

Read more

हत्यारों को कठघरे में कौन खड़ा करेगा?

पुण्य प्रसून बाजपेयी / तो गौरी लंकेश की हत्या हुई। लेकिन हत्या किसी ने नहीं की। यह ऐसा सिलसिला है, जिसमें या तो जिनकी हत्या हो गई उनसे सवाल पूछा जायेगा, उन्होंने जोखिम की जिन्दगी को ही चुना। या फिर हमें कत्ल की आदत होती जा रही है क्योंकि दाभोलकर, पंसारे, कलबुर्गी …

Read more

पत्रकारिता के गिरते स्तर पर कल परिचर्चा

बिहार श्रमजीवी पत्रकार यूनियन का आयोजन

पटना/ बिहार श्रमजीवी पत्रकार यूनियन, पत्रकारिता के गिरते स्तर से काफी चिंतित है।  महासचिव प्रेम कुमार के अनुसार, आज पत्रकारिता का स्तर लगातार गिरता जा रहा है। इसके लिए जिम्मेदार कोई और…

Read more

पत्रकार संगठनों ने की गौरी लंकेश की हत्या की तीखी भर्त्सना

नयी दिल्ली/ पटना। दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, पटना समेत देश के कई जगहों पर विभिन्न पत्रकार संगठनों ने पत्रकार गौरी लंकेश की निर्मम हत्या की तीखी भर्त्सना की और कर्नाटक सरकार से इस मामले की जांच में तेजी लाये जाने की मांग की।…

Read more

गौरी लंकेश का आख़िरी संपादकीय हिन्दी में

इस बार का संपादकीय फेक न्यूज़ पर था और उसका टाइटल था- फेक न्यूज़ के ज़माने में

रवीश कुमार/ गौरी लंकेश नाम है पत्रिका का। 16 पन्नों की यह पत्रिका हर हफ्ते निक…

Read more

सच को सच कह दोगे अगर तो फांसी पर चढ़ जाओगे

पत्रकार और समाजसेविका गौरी लंकेश की हत्या के बाद निर्मल रानी का लिखा आलेख

निर्मल रानी/ कट्टरपंथ के विरोध तथा धर्मनिरपेक्षता के पक्ष में निरंतर उठने वाली एक औ…

Read more

पत्रकार गौरी लंकेश की गोली मार कर हत्या

बेंगलुरु/ वरिष्ठ कन्नड़ पत्रकार और समाजसेविका गौरी लंकेश की आज शाम यहां उनके निवास पर तीन अज्ञात बंदूकधारियों ने गोली मार कर हत्या कर दी। सुश्री गौरी नक्सलियों को सुधारने का प्रयास और उन्हें समाज की मुख्य धारा से जोड़ने के लिये विख्यात थी। माना जा रहा है कि हमलावर गौरी की प्रतीक्षा क…

Read more

पत्रकार अजीत अंजुम को मिला दुष्यंत स्मृति सम्मान

मेरठ/ बिहार के बेगूसराय के अजीत अंजुम को पत्रकारिता में उत्त्कृष्ठ योगदान के लिए एक बार फिर सम्मानित किया गया है। ओज एवं वीर रस के कवि हरिओम पवार और अजीत अंजुम को "दुष्यंत स्मृति सम्मान" से नवाजा गया। पिछले दिनों मेरठ में दुष्यंत स्मृति समारोह में दुष्यंत कुमार फाउंडेशन की तरफ से वरिष्ठ टीवी…

Read more

13 blog posts

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना