Menu

 मीडियामोरचा

____________________________________पत्रकारिता के जनसरोकार

Print Friendly and PDF

वरिष्ठ पत्रकार राघवाचारी का निधन

रेड्डी-नायडू ने जताया शोक

हैदराबाद/ तेलुगू भाषा के जाने-माने वरिष्ठ पत्रकार सी राघवाचारी का सोमवार तड़के यहां निधन हो गया। श्री राघवाचारी कुछ समय से बीमार थे और अस्पताल में भर्ती थे। इलाज के दौरान आज तड़के उनका निधन हो गया। श्री राघवाचारी भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के मुखपत्र ‘विशालआंध्रा’ के संपादक रहें। उनका पार्थिव शरीर भाकपा मुख्यालय ‘मकदूम भवन’ ले जाया गया है जहां पार्टी के कई नेताओं ने श्रद्धा सुमन अर्पित कर उन्हें अंतिम विदाई दी।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने वरिष्ठ पत्रकार एवं सामाजिक आंदोलन के कार्यकर्ता राघवाचारी के निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने श्री राघवाचारी को एक प्रतिबद्ध पत्रकार तथा मूल्यों एवं सिद्धांतों पर कायम रहने वाला व्यक्ति बताया। उन्होंने शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगनमोहन रेड्डी, विधानसभा में विपक्ष के नेता एन चंद्रबाबू नायडू और भाकपा के प्रदेश सचिव के रामा कृष्णा, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के प्रदेश सचिव पी मधु ने श्री राघवाचारी के निधन पर शोक व्यक्त किया है। श्री रेड्डी ने यहां एक बयान जारी कर श्री राघवाचारी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि वह मूल्यों पर आधारित पत्रकारिता में विश्वास रखते थे। यह उनके लेखन में प्रतिबिंबित होता था। वह युवा पीढ़ी के लिए एक प्रेरणास्रोत्र थे।

श्री नायडू ने वरिष्ठ पत्रकार के निधन पर शोक जताते हुए कहा कि उन्होंने अपना जीवन उस विचारधारा को समर्पित कर दिया जिस पर वह विश्वास करते थे।

श्री रामा कृष्णा ने कहा कि श्री राघवाचारी ने छात्र जीवन में एआईएसएफ में भी सक्रिय भूमिका निभायी थी। श्री पी मधु ने भी उनके निधन पर शोक व्यक्त किया।

श्री राघवाचारी के परिजनों ने बताया कि उनका पार्थिव शरीर हैदराबाद से ले जाया जायेगा और विशालआंध्रा के कार्यालय में रखा जायेगा। इसके बाद उनकी अंतिम यात्रा निकाली जायेगी और उनका पार्थिव शरीर सिद्धार्थ मेडिकल कॉलेज को दान कर दिया जायेगा।

Go Back

Comment

नवीनतम ---

View older posts »

पत्रिकाएँ--

175;250;cff38901a92ab320d4e4d127646582daa6fece06175;250;e3ef6eb4ddc24e5736d235ecbd68e454b88d5835175;250;25130fee77cc6a7d68ab2492a99ed430fdff47b0175;250;7e84be03d3977911d181e8b790a80e12e21ad58a175;250;c1ebe705c563d9355a96600af90f2e1cfdf6376b175;250;911552ca3470227404da93505e63ae3c95dd56dc175;250;752583747c426bd51be54809f98c69c3528f1038175;250;ed9c8dbad8ad7c9fe8d008636b633855ff50ea2c175;250;969799be449e2055f65c603896fb29f738656784175;250;1447481c47e48a70f350800c31fe70afa2064f36175;250;8f97282f7496d06983b1c3d7797207a8ccdd8b32175;250;3c7d93bd3e7e8cda784687a58432fadb638ea913175;250;7a01499da12456731dcb026f858719c5f5f76880175;250;0e451815591ddc160d4393274b2230309d15a30d175;250;ac66d262fc1ac411d7edd43c93329b0c4217e224175;250;ff955d24bb4dbc41f6dd219dff216082120fe5f0175;250;028e71a59fee3b0ded62867ae56ab899c41bd974175;250;460bb56d8cde4cb9ead2d6bff378ed71b08f245d

पुरालेख--

सम्पादक

डॉ. लीना